सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने कहा है कि अगर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने वादे पूरे नहीं किए तो वे उन्हें मिला पद्म भूषण पुरस्कार वापस लौटा देंगे. बीते पांच दिनों से अपने गांव रालेगण सिद्धि में अनशन पर बैठे हजारे ने रविवार को यह बात कही. खबरों के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘अगर यह सरकार अगले कुछ दिनों में देश से किए अपने वादों को पूरा नहीं करती है, तो मैं अपना पद्म भूषण लौटा दूंगा... मोदी सरकार ने लोगों के विश्वास को तोड़ा है.’

अन्ना हजारे को वर्ष 1992 में पद्म भूषण दिया गया था. इन दिनों वे केंद्र में लोकपाल, महाराष्ट्र में लोकायुक्त की तत्काल नियुक्ति और किसानों के मुद्दों को लेकर अपने पैतृक गांव में अनशन कर रहे हैं. उन्हें भाजपा की सहयोगी शिवसेना का समर्थन मिल रहा है. पार्टी ने हजारे से आग्रह किया है कि वे जयप्रकाश नारायण की तरह भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व करें.