बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती ने सोमवार को हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के साथ गठबंधन खत्म करने का फैसला किया है. मायावती ने हरियाणा के इस क्षेत्रीय दल में बिखराव आने के कारण यह फैसला किया है. बसपा की तरफ से जारी एक बयान में यह घोषणा की गई है. इसमें यह भी कहा गया है कि अगर चौटाला परिवार में एकजुटता स्थापित हो जाती है तो बसपा इनेलो के साथ फिर गठबंधन करेगी.

इस बयान में मायावती के हवाले से कहा गया है कि इनेलो की आपसी खींचतान के कारण ही जींद विधानसभा उपचुनाव के नतीजे गठबंधन के पक्ष में नहीं आए.

पीटीआई ने बताया है कि बसपा प्रमुख ने आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों की राज्यवार समीक्षा के क्रम में सोमवार को हरियाणा में पार्टी संगठन व चुनावी तैयारियों की समीक्षा की थी. पार्टी की तरफ से जारी बयान के मुताबिक हरियाणा में प्रत्येक विधानसभा स्तर के जिम्मेदार पदाधिकारियों की यहां पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में बैठक आयोजित हुई थी. इस बैठक में मौजूद पदाधिकारियों ने बताया कि चौटाला परिवार में जारी आपसी घमासान से परिस्थितियां बदली हैं और बसपा का इनेलो के साथ गठबंधन भी इससे अछूता नहीं रहा.