सुप्रीम कोर्ट ने कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को आदेश दिया है कि वे शारदा चिटफंड घोटाले की जांच में सीबीआई के समक्ष पेश हों. शीर्ष अदालत ने आज इस मामले में सीबीआई की अपील पर सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया. खबर के मुताबिक कोर्ट ने कहा कि राजीव कुमार के खिलाफ कोई दंडात्मक कदम नहीं उठाया जाएगा और वे घोटाले की जांच में केंद्रीय एजेंसी के साथ पूरा सहयोग करें.

पीटीआई की खबर के मुताबिक सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि राजीव कुमार चिटफंड घोटाले की जांच के लिए पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा गठित एसआईटी का नेतृत्व कर रहे थे. उन्होंने कोलकाता पुलिस पर सबूत नष्ट करने का आरोप लगाते हुए कहा कि सीबीआई को छेड़छाड़ किए हुए कॉल डेटा रिकॉर्ड मुहैया कराए गए. वहीं, राजीव कुमार की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता एएम सिंघवी ने आरोप लगाया कि सीबीआई ने अपने नंबर बढ़ाने के लिए यह कदम उठाया है.

सुनवाई के बाद न्यायालय ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव, डीजीपी और कोलकाता पुलिस आयुक्त को सीबीआई द्वारा उनके खिलाफ दायर अवमानना याचिकाओं पर जवाब दाखिल करने को कहा.