भारतीय सेना धन की कमी का सामना कर रही है. सूत्रों के हवाले से इस तरह की ख़बर आई है. बताया जाता है कि पैसे की तंगी की वज़ह से अफसरों के भत्ते भी रोक दिए गए हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार नाम न छापने की शर्त पर सूत्रों ने बताया है कि सोमवार को अकाउंट डिवीज़न ने सेना की वेबसाइट पर एक नोटिस अपलोड किया था. इसे कुछ समय बाद हटा लिया गया. इस नोटिस में कहा गया था, ‘पर्याप्त फंड न होने की वज़ह से अफसरों के टीए/डीए (सेना के काम से कहीं आने-जाने के लिए दिया जाने वाला यात्रा और भोजन ख़र्च) की राशि अभी रोकी जा रही है. इसका भुगतान तब होगा जब संबंधित मद में पर्यात्त रकम का इंतज़ाम हो जाएगा.’

नोटिस में हालांकि यह भी कहा गया कि एलटीसी (छुटि्टयों के दौरान घूमने-फिरने के लिए दी जाने वाली वित्तीय छूट) की सुविधा जारी रहेगी.’ बताया जाता है कि पीसीडीए (प्रिंसिपल कंट्रोलर ऑफ डिफेंस अकाउंट), पुणे ने यह नाेटिस जारी किया था. सैन्य अफ़सरों को वेतन-भत्तों का भुगतान यही शाखा करती है. ग़ौरतलब है कि लगभग 13 लाख सैनिकों वाली सेना में करीब 40,000 अफ़सर हैं. इनमें 1,000 के आसपास अफसर सेना के ही किसी न किसी काम से अक्सर यात्रा पर रहते हैं.