पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार और भारतीय जनता पार्टी के बीच सीधी लड़ाई जोर पकड़ रही है. अभी इसी रविवार की बात है. भाजपा नेता और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पश्चिम बंगाल के बलूरघाट में एक जनसभा काे संबोधित करना था. लेकिन सरकारी मशीनरी ने उनके हेलीकॉप्टर को यहां उतारने की इजाज़त नहीं दी. इसके बाद मंगलवार को योगी आदित्यनाथ सड़क मार्ग से बंगाल पहुंचे. वहां उन्होंने पुरुलिया में जनसभा को संबोधित किया.

ख़बरों के मुताबिक पुरुलिया की रैली के लिए योगी आदित्यनाथ पहले हेलीकॉप्टर से झारखंड के बोकारो पहुंचे. इसके बाद सड़क मार्ग से पुरुलिया के लिए रवाना हुए. वहां उन्होंने जनसभा में सीधे ममता बनर्जी सरकार पर हमला बोला. योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘मुझे बहुत दुख हो रहा है कि गुरुदेव रबींद्रनाथ टैगोर की कर्मभूमि, हमारा बंगाल आज ममता बनर्जी सरकार की अराजकता और कुशासन का सामना कर रहा है. इसलिए अब समय आ गया है जब राज्य को इस सरकार से मुक्ति मिलनी चाहिए.’

योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘लोकतांत्रिक आंदोलन के जरिए बंगाल में लोकतंत्र की रक्षा की जानी चाहिए. इसीलिए आज मैं यहां, पुरुलिया आया हूं. ताकि इस लोकतांत्रिक आंदोलन का झंडा बुलंद कर सकूं. भ्रष्टाचारियों के गठबंधन (विपक्षी पार्टियों के) को यहां से चुनौती देने की शुरूआत कर सकूं.’ रैली को झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास ने भी संबोधित किया. उन्होंने कहा, ‘आप देख सकते हैं कि पश्चिम बंगाल में कैसे लोकतंत्र की हत्या हो रही है. देश में किसी भी पार्टी के नेता कहीं भी आ-जा सकते हैं. लेकिन यहां, बंगाल में देश के सबसे बड़े राज्य (उत्तर प्रदेश) के चुने हुए मुख्यमंत्री (आदित्यनाथ) का हेलीकॉप्टर उतारने की इजाज़त नहीं दी जाती.’

ज़वाब में ममता बनर्जी ने कोलकाता में अपने धरना स्थल से ही मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, ‘इस तरह के आरोप (हेलीकॉप्टर उतारने की इजाज़त न देने संबंधी) गलत हैं. पूरी तरह निराधार हैं. जहां तक योगी आदित्यनाथ की बात है तो वे पहले अपने उत्तरप्रदेश का ध्यान दें जहां कई लोगों की हत्याएं हो रही हैं. यहां तक कि पुलिसकर्मियों की भी हत्याएं हो चुकी हैं.’ कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के ख़िलाफ़ सीबीआई (केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो) की कार्रवाई के विरोध में ममता बनर्जी तीन दिन से धरना दे रही हैं.