पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अब हज सब्सिडी खत्म कर पैसे बचाने का निर्णय लिया है. बताया जाता है कि आर्थिक रूप से बेहाल पाकिस्तान को इससे 450 करोड़ रुपये का फायदा होगा. पीटीआई के मुताबिक मंगलवार को पाकिस्तान के धार्मिक एवं आपसी सौहार्द मामलों के मंत्री नूरुल हक कादरी ने मीडिया को यह जानकारी दी.

पाकिस्तानी न्यूज़ चैनल ‘द न्यूज़’ के मुताबिक नूरुल हक कादरी ने कहा, ‘पूर्ववर्ती (पीएमएल-एन) सरकार हर हज यात्री को 42-42 हजार रुपये की सब्सिडी देती थी जिससे राजकोष पर 450 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ता था.’ मंत्री के मुताबिक देश के मौजूदा आर्थिक हालात को ध्यान में रखते हुए संघीय कैबिनेट ने इस सब्सिडी को खत्म करने का फैसला किया है.

नूरुल हक कादरी ने यह भी बताया कि इस साल 184,000 पाकिस्तानी नागरिक हज यात्रा करेंगे. इनमें से एक लाख सात हजार लोग सरकारी कोटे से जबकि शेष निजी कोटे से हज यात्रा पर जाएंगे.

बीते हफ्ते पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता वाली कैबिनेट की बैठक में हज सब्सिडी खत्म करने का फैसला किया गया था. सरकार के इस फैसले का पाकिस्तान में काफी विरोध हो रहा है. इसी के चलते मंगलवार को सरकार ने लोगों को सब्सिडी खत्म करने के पीछे का कारण बताया है.