मध्य प्रदेश में गोहत्या के तीन आरोपितों के ऊपर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगाए जाने की खबर पर आज सोशल मीडिया में अच्छी-खासी प्रतिक्रियाएं आई हैं. यहां एक बड़े तबके ने इस मसले पर कांग्रेस को घेरा है. वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई का ट्वीट है, ‘कांग्रेस शासित मध्य प्रदेश में गोवंश की हत्या पर रासुका लगा दिया गया? मुझे पता है कि एक जमाने में गाय और बछड़ा कांग्रेस का चुनाव चिह्न हुआ करता था, लेकिन अब लगता है कि देश गाय के हवाले हो चुका है और साथ ही कांग्रेस की शैली वाली ‘धर्मनिरपेक्षता’ की भी पोल खुल चुकी है.’ वहीं जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने ट्वीट करके इसे मामले में रासुका लगाए जाने को पूरी तरह गलत बताया है.

मध्य प्रदेश सरकार के इस फैसले का मजाक बनाते हुए भी यहां कई प्रतिक्रियाएं आई हैं. ट्विटर हैंडल @BangduBol के जरिए प्रदेश के मुख्यमंत्री पर चुटकी ली गई है, ‘कमलनाथ, योगी आदित्यनाथ को बहुत ही तगड़ा कॉम्पिटीशन दे रहे हैं.’ एक यूजर ने कांग्रेस पर तंज किया है, ‘अब तक कहा जाता था, भाजपा = कांग्रेस + गाय, लेकिन अब कहा जाना चाहिए, मध्य प्रदेश में कांग्रेस = भाजपा + गाय + गोबर’

सोशल मीडिया में इस खबर पर आई कुछ और खास प्रतिक्रियाएं :

कीर्तीश भट्ट | @Kirtishbhat

अंतर बूझिए तो जानें!

कविता कौशिक | @KavitaKaushik_

मध्य प्रदेश में तीन लोगों को गोहत्या के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है. माना कि गोहत्या ग़ैरक़ानूनी है लेकिन उन पर रासुका लगाना और गाय व राष्ट्र को समानार्थी बना देने का क्या मतलब है? गोहत्या अपराध तो हो सकती है लेकिन यह कोई राष्ट्रविरोधी कार्रवाई नहीं है.

एस इरफान हबीब | @irfhabib

अगर यही मुख्य मुद्दे थे (मध्य प्रदेश में) तब पहले वाली सरकार भी पूरे समय यह सब करती रही. फिर लोगों ने सरकार क्यों बदली? इस पर विचार किया जाए.

बाल अनएंप्लॉयड वर्धन | @PresidentVerde

अभी-अभी पता चला!

हरिंदर बावेजा | @shammybaweja

अब कांग्रेस गोहत्या के कथित आरोपितों पर रासुका लगा रही है... क्या यह किसी प्रकार के ‘नर्म हिंदुत्व’ का औजार है?