योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने आज वित्त वर्ष 2019-20 का बजट पेश किया. खबरों के मुताबिक बजटीय प्रस्तावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के हिंदुत्व के एजेंडे से लेकर राज्य के आधुनिकीकरण तक की झलक देखने को मिली है. शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में गायों के संरक्षण व गोशालाओं के लिए इसमें राज्य सरकार ने 447 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है. वहीं प्रदेश के मदरसों के आधुनिकीकरण पर 459 करोड़ रुपये खर्च करने का प्रस्ताव भी दिया गया है.

इसके साथ ही राज्य सरकार ने प्रदेश पुलिस पर भी एक बड़ी रकम खर्च करने का मन बनाया है. 204 करोड़ रुपये इसके आधुनिकीकरण पर खर्च होंगे तो 700 करोड़ की लागत से 36 नए थानों का निर्माण किया जाएगा. इतनी ही रकम पुलिसकर्मियों के लिए नए आवास बनाने पर खर्च की जाएगी. साथ ही राज्य के नए जिलों में पुलिस लाइन बनाने के लिए 400 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है.

राज्य के 57 दमकल स्टेशनो में आवासीय व गैर आवासीय इमारतें बनाने के लिए 200 करोड़ रुपये आवंटित किए जाएंगे. वहीं इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास को ध्यान में रखते हुए 3,194 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. इसके तहत पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के लिए 1,194 करोड़ जबकि बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे के लिए एक-एक हजार करोड़ रुपये देने की घोषणा की गई है.

अपने बजट भाषण में राज्य के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने प्रदेश के लिए दो नए विश्वविद्यालयों का ऐलान भी किया. राज्य में एक आयुष जबकि एक चिकित्सा विश्वविद्यालय खोला जाएगा. आयुष विश्वविद्यालय के लिए 10 करोड़ जबकि अटल बिहारी वाजपेयाी चिकित्सा विश्वविद्यालय के लिए 50 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. इसके अलावा बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में ‘वैदिक विज्ञान केंद्र’ की स्थापना के लिए 16 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद दिए जाने संबंधी प्रस्ताव भी रखा गया है.

इस बजट में मथुरा, वाराणसी, अयोध्या जैसे धार्मिक स्थलों के सौंदर्यीकरण के लिए एक तय राशि आवंटित करने का प्रस्ताव भी है. इसके साथ खेती-किसानी के लिहाज से राष्ट्रीय कृषि विकास योजना पर 892 करोड़, वहीं राष्ट्रीय फसल बीमा योजना कार्यक्रम के लिए 450 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है.

राज्य में हथकरघा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए 150 करोड़ रुपये की बजटीय व्यवस्था की गई है. वहीं राज्य की बेटियों के लिए ‘कन्या सुमंगला योजना’ की शुरुआत करने का प्रस्ताव रखा गया है. लड़कियों के स्वास्थ्य व शिक्षा से संबंधित इस योजना के लिए 1200 करोड़ रुपये का आवंटन किया जाएगा.

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की मौजूदा सरकार का यह तीसरा बजट था. आगामी वित्त वर्ष के लिए चार लाख 70 हजार 684 करोड़ रुपये का यह बजट चालू वित्तीय वर्ष की तुलना में 12 फीसदी अधिक है. इधर, बजट पेश किए जाने के बाद पत्रकारों से बातचीत में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इसमें किसान, महिला और आम आदमी सहित हर वर्ग का ध्यान रखा गया है.