अमेरिका दो अतिआधुनिक मिसाइल डिफेंस सिस्टम भारत को बेचने पर राज़ी हुआ है. दो बोइंग-777 विमानों पर ये मिसाइल डिफेंस सिस्टम लगाए जाएंगे. इनकी लागत 19 करोड़ डॉलर (13.51 अरब रुपए लगभग) बताई जा रही है.

ख़बरों के मुताबिक अमेरिका से मिलने वाले मिसाइल डिफेंस सिस्टम भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के विमानों की सुरक्षा में काम आएंगे. भारत-अमेरिका रणनीतिक साझेदारी के तहत यह आपूर्ति की जाने वाली है. बताया जाता है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ये प्रणाली भारत को बेचे जाने पर अपनी ओर से सहमति दे दी है. अमेरिकी संसद की मंज़ूरी के लिए बुधवार को इस बाबत अधिसूचना भी जारी कर दी गई है. इन सिस्टमों से लैस विमानों पर मिसाइल हमले का ख़तरा नहीं रहता.

ख़बरों की मानें तो राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की सुरक्षा को बढ़ते ख़तरे के मद्देनज़र भारत ने यह सुरक्षा प्रणाली अमेरिका से मांगी थी. इसे तकनीकी भाषा में एलएआईआरसीएम (लार्ज एयरक्राफ्ट इंफ्रारेड काउंटरमीज़र्स) और एसपीएस (सेल्फ प्रोटेक्शन सुइट्स) कहा जाता है. इन प्रणालियों के लगने के बाद भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला ‘एयर इंडिया-वन’ विमान ‘एयर फोर्स-वन’ के जैसा हो जाएगा, जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति आवाज़ाही के लिए उपयोग करते हैं.