उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर की एक स्थानीय अदालत ने साल 2013 में दो युवकों की हत्या के एक मामले के सात दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है. स्क्रोल डॉट इन के मुताबिक इसी गुरुवार को इस अदालत ने मामले के सातों आरोपितों को दोषी करार दिया था.

मुजफ्फरनगर के कवाल गांव में 27 अगस्त 2012 को सचिन सिंह और गौरव सिंह की हत्या हुई थी. हत्या के इस मामले में अदालत ने मुजम्मिल, मुजस्सिम, फुरकान, नदीम, जहांगीर, अफजल और इकबाल को दोषी करार दिया है. अभियोजन पक्ष के वकील राजीव शर्मा के मुताबिक अदालत ने इन आरोपितों को दस गवाहों की गवाही के आधार पर दोषी माना है.

साल 2013 में इन दोनों युवकों की हत्या के बाद प्रदेश के शामली और मुजफ्फरनगर में दो संप्रदायों के बीच दंगे भड़क उठे थे. इन दंगों में करीब 62 लोगों की मौत हुई थी. साथ ही प्रदेश पुलिस ने उस दौरान यौन हिंसा के भी कई मामले दर्ज किए थे.

वहीं दूसरी तरफ इसी साल जनवरी में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने मुजफ्फरनगर जिला प्रशासन को उन दंगों के 18 मामले वापस लेने के निर्देश भी दिए हैं.