अमेरिकी राष्ट्रपति प्रशासन ने भारत में महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिये दो कार्यक्रमों की घोषणा की है. ये निजी क्षेत्र के साथ भागीदारी में चलाए जाएंगे. पीटीआई के मुताबिक ये दोनों ही कार्यक्रम विश्व स्तर पर पांच करोड़ महिलाओं को सशक्त बनाने की ट्रंप प्रशासन की पहल का हिस्सा हैं. इस पहल का नेतृत्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी और उनकी वरिष्ठ सलाहकार इवांका ट्रंप करेंगी.

व्हाइट हाउस ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि भारत के पश्चिम बंगाल में पेप्सिको के साथ साझेदारी में ‘यूनाइटेड स्टेट्स एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट’ (यूएसएआईडी) महिलाओं के आर्थिक सशक्तीकरण के लिये काम करेगा.

व्हाइट हाउस से जारी किए गए बयान में आगे कहा गया है, ‘ओपीआईसी (द ओवरसीज प्राइवेट इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन) का 10 करोड़ डॉलर का कर्ज इंडसइंड के माइक्रोफाइनेंस का विस्तार करेगा, जो भारत में महिलाओं को दिया जाएगा....एक अन्य योजना का उद्देश्य बाजारों में अपने सामान को निर्यात करने के लिये महिला उद्यमियों की क्षमताओं में सुधार करना है.’

इस संबंध में एक ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, ‘हमारा लक्ष्य पांच करोड़ महिलाओं तक पहुंचना है और शायद अधिक भी हो....साल 2025 तक विकासशील देशों में पांच करोड़ से अधिक महिलाओं तक पहुंचा जाएगा और यह काम इवांका करेंगी.’

ट्रंप का आगे कहना था, ‘हमारा लक्ष्य महिलाओं को सशक्त बनाना है ताकि वे अपने देशों और दुनियाभर में करोड़ों परिवारों को आत्मनिर्भर बनाने में मदद कर सकें.’