उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की कुल संख्या 70 हो गई है. शुक्रवार को खबर आई थी कि हरिद्वार जिले के बालूपुर गांव में कई लोगों को जहरीली शराब परोसी गई थी. पुलिस के मुताबिक उसे पीने के बाद कई लोगों की तबीयत बिगड़ गई जिनमें से 24 की मौत हो गई. वहीं, उत्तराखंड से सटे उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 46 हो गई. बताया जा रहा है कि ये लोग बालूपुर से ही शराब पीकर लौटे थे.

पीटीआई के मुताबिक उत्तराखंड के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) अशोक कुमार ने बताया कि गुरुवार की शाम उत्तराखंड के झबरेड़ा क्षेत्र में स्थित बालूपुर में एक मृतक की तेरहवीं में अवैध शराब परोसी गई थी, जिसके बाद लोगों की तबीयत खराब हो गई. वहीं, उतर प्रदेश के सहारनपुर के जिलाधिकारी आलोक पाण्डेय ने जिले में जहरीली शराब प्रकरण में मरने वालों की संख्या की पुष्टि करते हुए कहा कि मृतक तेरहवीं में शराब पीने के बाद अपने घर वापस लौट आए थे.

पाण्डेय ने बताया कि रात में बारिश और ओलावृष्टि होने के कारण पीड़ितों को उपचार नहीं मिल सका. वहीं, जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार ने बताया कि शराब पीने के बाद गुरुवार रात से लोगों की तबीयत खराब होने लगी थी और शुक्रवार सुबह से मौतों का सिलसिला शुरू हो गया.

घटना के बाद उत्तराखंड सरकार ने हरकत में आते हुए आबकारी विभाग के हरिद्वार जिले के 13 अधिकारियों और कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया. वहीं, झबरेड़ा के थानाध्यक्ष प्रदीप मिश्रा सहित चार पुलिस कर्मियों को भी प्रथमद्रष्टया लापरवाही बरतने के आरोप में तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया. उधर, हरिद्वार के जिलाधिकारी दीपक रावत ने घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश देते हुए अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) को जांच अधिकारी नामित किया है.