सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म- ट्विटर के सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) जैक डोरसी और अन्य अधिकारियों ने संसद की समिति के सामने पेश होने से इंकार कर दिया है. सूत्रों के हवाले से यह ख़बर आई है.

ख़बर में बताया गया है कि भारतीय जनता पार्टी के सांसद अनुराग ठाकुर की अध्यक्षता वाली सूचना-प्रौद्योगिकी से जुड़ी संसदीय समिति ने एक फरवरी को ट्विटर सीईओ के लिए समन जारी किया था. इसमें उनसे अगली बैठक में पेश होने को कहा गया था. इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भारतीय नागरिकों के अधिकारों की सुरक्षा के मसले पर ज़वाब-तलब के लिए उन्हें बुलाया गया था. बताया जाता है कि पहले इस समिति की अगली बैठक सात फरवरी को होने वाली थी. लेकिन फिर इसे बढ़ाकर 11 फरवरी को कर दिया गया.

बैठक आगे बढ़ाने के पीछे मक़सद ये था कि ट्विटर के सीईओ और अन्य अधिकारियों को भारत आने के लिए पर्याप्त समय मिल सके. इसके बावज़ूद जैसा कि सूत्र बताते हैं, इन अधिकारियों ने अपने ज़वाब में कहा है कि उन्हें समिति के सामने उपस्थित होने के लिए पर्याप्त समय नहीं दिया गया. इसलिए वे पेश नहीं हो सकते. बताया जाता है कि ट्विटर के अधिकारियों का यह ज़वाब सात फरवरी को ही संसदीय समिति को मिल चुका है. ट्विटर के कानूनी प्रकोष्ठ की वैश्विक प्रमुख विजया गड्‌डे के मार्फ़त यह ज़वाब भेजा गया है.