चीन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अरुणाचल प्रदेश के दौरे का विरोध किया है. शनिवार को उसने कहा कि वह कभी इस संवेदनशील सीमांत प्रदेश को मान्यता नहीं देगा. नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अरुणाचल प्रदेश में चार हजार करोड़ रुपये की अलग-अलग परियोजनाओं का उद्घाटन किया.

पीटीआई के मुताबिक चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने नरेंद्र मोदी के अरुणाचल प्रदेश दौरे पर एक सवाल के जवाब में कहा, ‘चीन-भारत सीमा सवाल पर चीन का रुख सुसंगत और सुस्पष्ट है. चीन सरकार ने कभी तथाकथित ‘अरुणाचल प्रदेश’ को मान्यता नहीं दी है.’ उनका आगे कहना था कि भारतीय नेतृत्व को ऐसी किसी कार्रवाई से परहेज करना चाहिए जो सीमा मुद्दे को जटिल बनाए.

उधर, भारत ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी है. नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा, ‘भारतीय नेता समय समय पर अरुणाचल प्रदेश का दौरा करते हैं जैसे वे भारत के अन्य भागों का दौरा करते हैं. इस सुसंगत रुख से अनेक मौकों पर चीनी पक्ष को अवगत कराया जा चुका है.’ चीन दावा करता है कि अरुणाचल प्रदेश दक्षिण तिब्बत का हिस्सा है. भारत और चीन सीमा विवाद निबटाने के लिए अब तक 21 दौर की बातचीत कर चुके हैं.