प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े पाकिस्तानी संगठन फलाह-ए-इंसानियत के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का एक मामला दर्ज किया है. जांच एजेंसी ने शनिवार को यह जानकारी दी है.

पीटीआई के मुताबिक इससे पहले फलाह-ए-इंसानियत के खिलाफ केंद्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने गैर कानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए) के तहत एक आपराधिक मामला दर्ज किया था. ईडी के मुताबिक उसने एनआईए की एफआईआर के आधार पर ही मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े कानून (पीएमएलए) के तहत इस संगठन पर मामला दर्ज किया है.

बीते साल सितंबर में एनआईए ने दिल्ली से इस संगठन के तीन कथित सदस्यों को गिरफ्तार किया था. इनके पास से चार दर्जन से अधिक सिम कार्ड, फोन और 1. 56 करोड़ रुपये की संदिग्ध रकम भी जब्त की गई थी. ईडी ने बताया है कि इस मामले का एक आरोपित मोहम्मद सलमान दुबई में रहने वाले एक पाकिस्तानी नागरिक से नियमित रूप से संपर्क में था जो फलाह-ए-इंसानियत के उप प्रमुख से संबंध रखता था.

सलमान पर आरोप है कि उसने हवाला के जरिए फलाह-ए-इंसानियत के संचालकों से धन हासिल किया था. साथ ही, उसने और अन्य लोगों ने पाकिस्तान एवं संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के विभिन्न लोगों से कथिततौर पर अवैध धन प्राप्त किया था. ईडी ने अपने एक बयान में कहा है, ‘इस धन का इस्तेमाल भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने और अशांति पैदा करने में किया गया.’