पश्चिम बंगाल की कृष्णागंज सीट से तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के विधायक सत्यजीत बिस्वास की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. कुछ अज्ञात लोगों ने बिस्वास को उस समय गोली मारी जब वे यहां सरस्वती पूजा के कार्यक्रम में शामिल होने आए थे. बताया जा रहा है कि तृणमूल विधायक कार्यक्रम के दौरान जब स्टेज से उतर रहे थे तभी हत्यारों ने उनके ऊपर गोलियां चला दीं.

न्यूज़ 18 के मुताबिक बिस्वास का विधानसभा क्षेत्र बंगाल के नादिया जिले में पड़ता है. बांग्लादेश की सीमा से लगते इस जिले में बीते समय में भाजपा ने अपनी पकड़ काफी मजबूत की है. बिस्वास मटुआ समुदाय से आते थे और इस सीट पर यह समुदाय भाजपा और टीएमसी दोनों के लिए काफी अहम है.

इस बीच टीएमसी के जिला अध्यक्ष गौरीशंकर दत्ता ने बिस्वास की हत्या के पीछे भाजपा और टीएमसी से भाजपा में गए नेता मुकुल रॉय के समर्थकों को जिम्मेदार ठहराया है. वहीं बंगाल इकाई के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा है, ‘बिस्वास बहुत ही जाने-माने नेता थे और उनकी हत्या दुर्भाग्यपूर्ण है. टीएमसी में असामाजिक तत्व भरे पड़े हैं. जब भी तृणमूल के लोग ऐसी घटनाओं में भाजपा को घसीटते हैं, बाद में पता चलता है कि वह उनके अंदरूनी झगड़े का नतीजा थी.’ घोष ने आगे यह भी कहा कि उनकी पार्टी राज्य की पुलिस पर भरोसा नहीं करती इसलिए इस हत्याकांड की जांच सीबीआई को सौंपी जानी चाहिए.