इंडिगो एयरलाइंस के बारे में ख़राब ख़बरें आने का सिलसिला जारी है. अभी सामने आया है कि इसी शनिवार को एयरलाइंस के लगभग 180 यात्री हैदराबाद हवाई अड्‌डे पर छह घंटे से ज़्यादा फंसे रहे. क्याेंकि हैदराबाद से लखनऊ जाने वाली उड़ान के पायलट ड्यूटी पर ही नहीं आए. बाद में जैसे-तैसे कंपनी ने इस उड़ान को ले जाने के लिए पायलटों का बंदोबस्त किया.

ख़बरों के मुताबिक हैदराबाद से इंडिगो की उड़ान शाम 4.10 पर लखनऊ के लिए रवाना होने वाली थी. लेकिन यह देर रात 9.30 पर रवाना हो सकी. तब तक विमान के यात्रियों को हवाई अड्‌डे पर इंतज़ार करना पड़ा. बताया जाता है कि इस उड़ान के लिए जिस दूसरे पायलट को लाया गया उसे भी दोहा के लिए उड़ान लेकर जाना था. यह बात उसने ख़ुद यात्रियों को बताई. विमान उड़ाने से पहले उसने यात्रियों को अपनी सफाई दी. साथ ही माफ़ी भी मांगी. उसी को किसी यात्री ने रिकॉर्ड कर लिया, जिससे यह ख़ुलासा हो सका.

इस बाबत जब इंडिगो से संपर्क किया गया तो उसने अपनी सफाई में कहा, ‘शुक्रवार को उत्तर भारत के कई इलाकों में ओलावृष्टि हुई थी. इससे एयरलाइंस को 11 उड़ानाें का रास्ता बदलना पड़ा. इससे बाद के दिनों में हमारा पूरा संचालन तंत्र गड़बड़ा गया. इसी वज़ह से यात्रियों को थोड़ी दिक्क़त हुई. इसके लिए लिए हमें खेद है.’ वैसे ख़बरों की मानें तो इंडिगो की उड़ान संचालन व्यवस्था अब तक पटरी पर नहीं आ पाई हे. कंपनी ने शनिवार-रविवार को 30 से ज़्यादा उड़ानें रद्द की हैं. सोमवार को भी ऐसा होने की संभावना है.

सूत्र बताते हैं कि इंडिगो के कई पायलट ऐसे हैं जो साल में 1,000 घंटे विमान उड़ाने की सीमा पार कर चुके हैं. इसलिए यह पूरा प्रबंध गड़बड़ा गया है. पायलटों की ड्यूटियां नए सिरे से लगाई जा रही हैं. ग़ौरतलब है कि पायलटों के लिए सालभर में अधिकमत 1,000 घंटे विमान उड़ाने का ही नियम है.