भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता व केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि उनके संसदीय क्षेत्र में ‘जातिवाद की राजनीति’ की कोई जगह नहीं है. टाइम्स नाउ के मुताबिक नितिन गडकरी ने यह बात महाराष्ट्र के पुणे में एक कार्यक्रम के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘मेरा जातिवाद में कोई विश्वास नहीं है. मैं नहीं जानता कि आपके क्षेत्र में कितनी जातियां हैं. लेकिन यह जानता हूं कि मेरे संसदीय क्षेत्र में कोई जाति नहीं. क्योंकि मैंने वहां कह रखा है कि अगर किसी ने जाति की बात की तो उसकी पिटाई होगी.’

इसके साथ ही नितिन गडकरी ने लोगों से अपने समाज को जाति और संप्रदाय से मुक्त बनाने की अपील भी की. उन्होंने कहा कि समाज में किसी व्यक्ति की पहचान उसकी जाति के आधार पर नहीं की जानी चाहिए. अमीर-गरीब या फिर ऊंची-नीची जाति के आधार पर भी कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए. उन्होंने आगे कहा, ‘लोगों को गरीबों व जरूरतमंदों की मदद पर ध्यान देना चाहिए. उनके साथ विनम्र रहना चाहिए, क्योंकि गरीबों की मदद करना ईश्वर की भक्ति करने जैसा है.’

बीते कुछ दिनों से नितिन गडकरी अपने बयानों को लेकर लगातार चर्चा में रहे हैं. इससे पहले इसी साल जनवरी में उन्होंने नेताओं की वादाखिलाफी को लेकर एक बयान दिया था. तब उन्होंने कहा था कि जो नेता अपने वादों को पूरा नहीं करते जनता उनकी पिटाई भी करती है. उनका यह भी कहना था कि नेताओं को जनता से वही वादे करने चाहिए जिन्हें वह पूरा करने में वे समर्थ हों. उस समय उनके उस बयान के बहाने कांग्रेस के नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना भी साधा था.