सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा का नाम दिल्ली के प्रतिष्ठित श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स (एसआरसीसी) के कार्यक्रम स्टूडेंट्स यूनियन बिजनेस कॉन्क्लेव 2019 के वक्ताओं की सूची में से हटा दिया गया है. पीटीआई ने अधिकारियों के हवाले से यह जानकारी दी है.

खबर के मुताबिक अधिकारियों ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा जांच एजेंसी के निदेशक के तौर पर उन्हें बहाल किए जाने के एक दिन बाद नौ जनवरी को उनको एक आमंत्रण भेजा गया था और कल होने वाले कार्यक्रम के दौरान भाषण देने का आग्रह किया गया था. समाचार एजेंसी ने बताया कि इस बारे में वर्मा से संपर्क नहीं हो सका है. वहीं, उनके सहयोगियों ने बताया कि उनका नाम वक्ता सूची में से हटा लेने के बारे में उन्हें खबर कर दी गई है.

गौरतलब है कि आलोक वर्मा की बहारी के अगले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, न्यायमूर्ति एके सीकरी और लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे वाली एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने उन्हें सीबीआई निदेशक के पद से स्थानांतरित करने का फैसला किया था. हालांकि खड़गे ने इस पर अपनी कड़ी असहमति दर्ज कराई थी. समिति के फैसले के बाद वर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था.