मई-2016 में जब से पूर्व आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा) किरण बेदी ने पुड्‌डुचेरी की उपराज्यपाल बनी हैं तभी से राज्य के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी के साथ उनके टकराव की खबरें आ रही हैं. इसी सिलसिले का अब चरम ये है कि मुख्यमंत्री नारायणसामी अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों के साथ बुधवार से उपराज्यपाल के ख़िलाफ़ राजभवन के सामने धरना दे रहे हैं. गुरुवार को यह दूसरे दिन भी जारी रहा. अब तक विवाद का कोई हल नहीं निकला है.

ख़बरों के मुताबिक उपराज्यपाल के ख़िलाफ़ मुख्ययमंत्री की नाराज़गी की ताज़ा वज़ह दोपहिया वाहनचालकों के लिए हेलमेट अनिवार्य करने संबंधी आदेश है. ये आदेश उपराज्यपाल किरण बेदी ने जारी किया है. जबकि मुख्यमंत्री नारायणसामी और उनकी सरकार इस व्यवस्था पर्याप्त जागरुकता फैलाए जाने के बाद लागू करना चाहती थी. लेकिन उपराज्यपाल ने राज्य सरकार की मंशा की अनदेखी करते हुए आदेश जारी कर दिया. सो अब मुख्यमंत्री और उनके मंत्रियों की मांग है कि जब तक उपराज्यपाल आदेश वापस नहीं लेतीं उनका धरना जारी रहेगा.

इसके अलावा कहा ये भी जा रहा है कि नारायणसामी मुफ्त चावल बांटने समेत करीब 39 सरकारी योजनाओं पर उपराज्यपाल की मंजूरी चाहते हैं. लेकिन इनमें से कई योजनाओं को उपराज्यपाल ने मंजूरी देने से इंकार कर दिया है.

इधर उपराज्यपाल किरण बेदी का कहना है, ‘अभी सात फरवरी को मुख्यमंत्री ने मुझे पत्र लिखकर मेरे सामने अपनी बात रखी थी. इस पर चर्चा के लिए मैंने मुख्यमंत्री को 21 फरवरी को बुलाया है. लेकिन उन्होंने बात करने या पत्र के ज़वाब का इंतज़ार करने के बज़ाय राजभवन के सामने धरना देने का रास्ता चुना. यह उचित नहीं है. उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे जनता को नाहक तक़लीफ़ हो रही है.’