दिल्ली में लोक सभा चुनाव के दौरान कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के गठबंधन शायद नहीं होगा. हालांकि इसकी अटकलें ज़रूर थीं. लेकिन आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल की मानें तो कांग्रेस ने इस गठबंधन के लगभग ‘न’ कह दिया है.

अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘हम (क्षेत्रीय विपक्षी दल) देश की मौज़ूदा परिस्थिति को लेकर बेहद चिंतित हैं. इसलिए हम गठबंधन चाहते हैं. लेकिन कांग्रेस ने लगभग इसके लिए न कह दिया है.’ ख़बरों की मानें तो दिल्ली में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार के घर पर बुधवार देर रात बैठक हुई थी. इसमें तमाम क्षेत्रीय विपक्षी पार्टियों के नेता और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी थे. बताया जाता है कि बैठक में राहुल गांधी ने सहयोगी दलों के नेताओं से साफ कहा है, ‘हम एक-दूसरे से भी प्रतिस्पर्धा (आगामी चुनाव में) करेंगे.’

माना जा रहा है कि राहुल गांधी की यह टिप्पणी दिल्ली के साथ-साथ पश्चिम बंगाल के संदर्भ में भी ख़ास तौर पर थी. दोनों राज्यों में कांग्रेस मुख्य विपक्षी दल है. पश्चिम बंगाल में उसका मुकाबला ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से और दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की आप से है. हालांकि दिलचस्प बात ये है कि टीएमसी और आप दोनों ही भारतीय जनता पार्टी के ख़िलाफ़ राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस से गठबंधन करने की इच्छुक हैं. लेकिन कांग्रेस शायद इन दलाें के साथ चुनाव में उतरने के मूड में नहीं है.