पुलवामा आतंकवादी हमले पर अपनी टिप्पणी को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि अगर करतारपुर गलियारे पर फैसला रद्द हो जाता है तो इससे आतंकवादी प्रोत्साहित होंगे.

सिद्धू ने लुधियाना में पत्रकारों से कहा, ‘सिखों का करतारपुर गलियारा रूक नहीं सकता है. क्या आप चाहते हैं कि दो प्रधानमंत्रियों द्वारा लिया गया फैसला रद्द हो? कोई भी देश को आतंकवाद के आगे झुका नहीं सकता है और यह बहुत साफ है.’ पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों के लिए समुचित सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम नहीं किए जाने संबंधी सवाल करते हुए सिद्धू ने कहा कि जवानों के मारे जाने की घटनाओं को रोकने के लिए एक स्थायी हल की जरूरत है. सिद्धू से पूछा गया कि क्या उन्हें पाकिस्तान जाने का पछतावा है तो उन्होंने कहा कि उन्हें इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया गया था और उन्हें पाकिस्तान जाने का कोई पछतावा नहीं है.

पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले की पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा जिम्मेदारी लेने के बाद शुक्रवार को सिद्धू ने कहा था कि कुछ लोगों के कृत्य के लिए क्या पूरे देश को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है. इसके बाद भाजपा और शिरोमणि अकाली दल ने सिद्दू की आलोचना की थी. हालांकि, सिद्धू ने अपने पहले के बयान पर कायम रहने की बात कही है. सिद्धू ने कहा कि कुछ आतंकवादियों के कारण देश की तरक्की को रोका नहीं जा सकता है.