बिहार विधानसभा में सोमवार को जमकर हंगामा हुआ. वज़ह थी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस्तीफ़े की मांग. विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के विधायकों ने यह मांग उठाई थी.

ख़बरों के मुताबिक सुबह 11 बजे जैसे ही विधानसभा की बैठक शुरू हुई आरजेडी विधायक भाई वीरेंद्र की अगुवाई में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस्तीफ़े की मांग करने लगे. इस मांग का आधार था बीते सप्ताह विशेष पॉक्सो (यौन अपराधाों से बच्चों को सुरक्षा देने वाला कानून) अदालत द्वारा जारी किया गया आदेश. इस आदेश में पटना की विशेष अदालत ने सीबीआई (केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो) को एक अर्ज़ी आगे बढ़ाई थी. अदालत में दायर की इस अर्ज़ी में मांग की गई थी कि मुज़फ्फरपुर आश्रय स्थल में रहने वाली बच्चियों के यौन उत्पीड़न से जुड़े मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भूमिका की भी जांच की जाए. यह अर्ज़ी इसी मामले के एक आरोपित ने दायर की थी.

इसी आधार पर विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने कहा कि पॉक्सो ‘अदालत ने मुख्यमंत्री पर कोई टिप्पणी नहीं की है. उनकी भूमिका पर कोई सवाल नहीं उठाया है. उनके ख़िलाफ़ जांच का भी कोई आदेश नहीं दिया है. सिर्फ़ अर्ज़ी ही सीबीआई की तरफ बढ़ाई है. यह नियमित प्रक्रिया है.’ विधानसभा अध्यक्ष ने यह भी कहा कि यदि ‘विपक्ष के सदस्याें के पास अदालत के ऐसे किसी आदेश की प्रति हो जिसमें मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ जांच का आदेश दिया गया हो तो वह उपलब्ध कराया जाए.’ विधानसभा अध्यक्ष के इस रुख़ से विपक्षी विधायक नाराज़ हो गए और उन्होंने हंगामा खड़ा कर दिया. इससे सदन की कार्यवाही पहले दो बजे तक और फिर पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई.