सऊदी अरब ने आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत का साथ देने और खुफिया सूचनाएं साझा करने की बात कही है. भारत दौरे पर आए सऊदी अरब के शहजादे मोहम्मद बिन सलमान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ शिष्टमंडल स्तर की वार्ता के बाद भारत को इनका भरोसा दिया है. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. उन्होंने कहा, ‘आतंकवाद और कट्टरपंथ हमारी साझी चिंता है. हम भारत के साथ पूरा सहयोग करेंगे.’ वहीं, सऊदी अरब के विदेश मंत्री अदेल बिन अहमद अल जुबेर ने कहा कि उनका देश मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव का विरोध नहीं करेगा.’

भारतीय फिल्में पाकिस्तान में रिलीज न की जाएं : तिग्मांशु धूलिया

फिल्म निर्माता तिग्मांशु धूलिया ने पाकिस्तान के पाइरेसी के गढ़ होने की वजह से वहां भारतीय फिल्मों का प्रदर्शन न किए जाने पर जोर दिया है. साथ ही, उन्होंने अपनी फिल्म ‘मिलन टॉकीज’ को पाकिस्तान में रिलीज नहीं करने की बात भी कही है. द एशियन एज की खबर की मानें तो तिग्मांशु धूलिया के साथ टोटल धमाल, लुका-छुपी और अर्जुन पटियाला जैसी फिल्मों के निर्माताओं ने भी अपनी फिल्में पाकिस्तान में प्रदर्शित न करने का फैसला लिया है. बताया जाता है कि उन्होंने यह फैसला पुलवामा आतंकी हमले के विरोध में किया है.

जम्मू-कश्मीर : 18 अलगाववादी नेताओं के साथ शाह फैसल की सुरक्षा वापस

पुलवामा हमले के बाद सरकार ने सख्त रुख अपनाते हुए बुधवार को 18 अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस ले ली. इनमें हुर्रियत (जी) प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी और जेकेएलएफ के यासीन मलिक भी शामिल हैं. अमर उजाला के पहले पन्ने पर छपी खबर के मुताबिक इनके साथ पूर्व नौकरशाह शाह फैसल सहित 155 लोगों की भी सुरक्षा व्यवस्था हटा ली गई है. भाजपा महासचिव राम माधव ने केंद्र के इस फैसले पर कहा, ‘एसएएस गिलानी और यासीन मलिक के बारे में पूछने वाले जान लें कि वे न तो सरकारी सुरक्षा के मजे ले सकते हैं और न ही सुविधाओं के.’ इससे पहले बीते हफ्ते सरकार ने पांच अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा व्यवस्था हटा ली थी.

छह मार्च को कैबिनेट की बैठक के बाद आम चुनावों की तारीखों का एलान

आगामी छह मार्च को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक के बाद साल 2019 के लोक सभा चुनाव का एलान किया जा सकता है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक उसी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के सभी मुख्य सचिवों के साथ बैठक करेंगे. इसमें विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा की जाएगी. इसके बाद सात से 10 मार्च के बीच चुनाव आयोग आम चुनाव की तारीखों का एलान कर सकता है. वहीं, आयोग ने सभी राज्यों से 28 फरवरी तक तमाम प्रशासनिक और अधिकारियों के तबादले की तैयारी पूरी कर लेने को कहा है. दूसरी ओर, जम्मू-कश्मीर में मौजूदा हालात को देखते हुए विधानसभा चुनाव को टाले जाने की भी खबर है. अखबार ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि खुफिया तंत्रों से मिली रिपोर्ट के बाद राज्य में लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव करवाए जाने की संभावना कम है.

बिहार कांग्रेस की तुलना में हमारा आधार बड़ा : जीतनराम मांझी

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है. द इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित खबर के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस ने अपना आधार खो दिया है. हमारे पास कई सामाजिक समूहों का समर्थन है. इसकी वजह से हमारा आधार कहीं बड़ा है.’ माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव में विपक्षी गठबंधन में उनकी पार्टी को केवल एक सीट लड़ने के लिए दी जा सकती है. इसकी वजह से जीतनराम मांझी नाराज बताए जा रहे हैं. वहीं, भाजपा ने कहा कि उनके लिए एनडीए के दरवाजे खुले हुए हैं. बिहार-भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा, ‘हम लोग हमेशा मांझी जी की इज्जत करते हैं. यदि वे एनडीए में शामिल होते हैं तो हम उन्हें बेहतर विकल्प देंगे.’ दूसरी ओर, ‘हम’ प्रमुख ने एनडीए में शामिल होने को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. माना जा रहा है कि वे राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के साथ मुलाकात के बाद इस पर अंतिम फैसला ले सकते हैं.

एफबीआई के पूर्व कार्यवाहक प्रमुख ने डोनाल्ड ट्रंप को रूसी एजेंट बताया

अमेरिका की संघीय जांच एजेंसी एफबीआई के पूर्व कार्यवाहक प्रमुख एंड्रयू मैक्केब ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को रूसी एजेंट बताया है. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक उन्होंने अपनी किताब ‘द थ्रेट’ के प्रचार के दौरान यह दावा किया. मैक्केब ने कहा, ‘हमें लगा कि यह संभव हो सकता है कि ट्रंप सीधे रूस की ओर से अपने प्रशासन के शुरुआती दिनों में काम कर रहे थे. हमारे पास ऐसी जानकारी थी जिससे हमें विश्वास हुआ कि राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ट्रंप खतरा हो सकते हैं.’ साथ ही, उन्होंने दावा किया कि राष्ट्रपति ट्रंप अभी भी रूस का मोहरा हो सकते हैं.