हमारे देश में धर्म और आस्थाओं का विशेष महत्व है. हिंदू कैलेंडर में हर दिन कोई न कोई व्रत या त्योहार पड़ता है जिसके लिए आयोजन किए जाते हैं. कुंभ का आयोजन भी आस्था का ऐसा ही विशालतम रूप है. हर 12 वर्ष बाद आने वाला महाकुंभ विश्व के सबसे बड़े मानव समागम के रूप में इतिहास की किताबों में दर्ज है. संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) ने कुंभ मेले को दुनिया की सबसे बड़ी शांतिपूर्ण सभा के रूप में मान्यता दी है. इस ऐतिहासिक आयोजन के लिहाज से आज की तारीख महत्वपूर्ण है. साल 2001 में इस सदी के पहले महाकुंभ का आयोजन किया गया था जिसका समापन 21 फरवरी को महाशिवरात्रि के दिन हुआ था.

कुंभ मेले का आयोजन सरकार के लिए हमेशा से एक बड़ी चुनौती रहा है. लेकिन माना जाता है कि इससे राज्य की अर्थव्यवस्था और पर्यटन को बढ़ावा देने में भी मदद मिलती है. इस समय प्रयागराज में कुंभ का आयोजन किया जा रहा है, जिसे अर्द्धकुंभ भी कहा जाता है. यह महाकुंभ के छह साल बाद आयोजित किया जाता है. इससे पिछला महाकुंभ 2013 में आयोजित किया गया था.

देश-दुनिया के इतिहास में 21 फरवरी की तारीख में दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:

1965 : विवादित राष्ट्रवादी अश्वेत नेता मैल्कम एक्स की अमेरिका में हत्या कर दी गई. न्यूयॉर्क में उन्हें उनके 400 समर्थकों के सामने गोली मार दी गई. हत्या के पीछे नेशन ऑफ इस्लाम नाम के एक संगठन का हाथ होने का संदेह.

1972 : अमेरिका के राष्ट्रपति रिचर्ड पी निक्सन ने चीन की यात्रा कर दोनो देशों के बीच पिछले 21 साल के दुराव को समाप्त किया.

1999 : यूनेस्को ने 21 फरवरी को मातृभाषा दिवस के रूप में मनाने का ऐलान किया.

1999 : पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बीच लाहौर घोषणा पर समझौता.

2004 : देश की टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने डब्ल्यूटीए खिताब जीतकर एक बड़ी उपलब्धि अपने नाम की. ऐसा करने वाली वे पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनीं.