इस साल अप्रैल-मई में होने वाले आम चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश के दो बड़े राजनीतिक दलों बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और समाजवादी पार्टी (सपा) ने सीटों की सूची गुरुवार को जारी कर दी. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. इसके मुताबिक राज्य की 80 लोक सभा सीटों में से बसपा 38 और सपा 37 सीटों पर अपने-अपने उम्मीदवार उतारेगी. वहीं, तीन सीटें राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) और दो सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ी गई हैं. दूसरी ओर, सपा के संरक्षक और पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने इस पर अपनी नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने कहा, ‘अपने ही लोग पार्टी खत्म कर रहे हैं. सीटें आधी होने से आधा यूपी तो हम पहले ही हार गए.’

संसदीय समिति ने सरकार से कालेधन पर जारी शोध रिपोर्टों को सार्वजनिक करने को कहा

वित्त मामलों की संसदीय समिति ने केंद्रीय वित्त मंत्रालय से कालेधन को लेकर तीन शोध संस्थाओं की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने को कहा है. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक गुरुवार को समिति ने मंत्रालय के अधिकारियों से जवाब तलब किया था. इसमें अधिकारियों ने इन संस्थाओं की रिपोर्टों के आधार पर समिति के सदस्यों को प्रेजेंटेशन दिया. इन अधिकारियों की मानें तो इन संस्थानों का आकलन है कि देश में जितना पैसा सर्कुलेशन यानी बाजार में है, उसमें दो से सात फीसदी कालाधन हो सकता है. वहीं, इन रिपोर्टों के आधार पर देश में कालेधन का पता लगाना बेहद मुश्किल है. वित्त मंत्रालय के अधिकारियों के साथ इस बैठक में समिति के अध्यक्ष वीरप्पा मोईली के साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी मौजूद थे.

अनुच्छेद-370 को खत्म करना संभव नहीं : नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष अधिकार देने वाले संविधान के अनुच्छेद-370 को हटाए जाने को लेकर अपनी असहमति जाहिर की है. द एशियन एज की खबर के मुताबिक उन्होंने कहा है कि संवैधानिक प्रावधानों की वजह से ऐसा करना संभव नहीं है. नीतीश कुमार ने गुरुवार को पटना में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, ‘मैं अनुच्छेद-370 को हटाने के पक्ष में नहीं हूं. लेकिन, इसी वक्त मैं कहता हूं कि सरकार को देश से आतंकवाद खत्म करने के लिए सभी जरूरी कदम उठाने चाहिए.’ साथ ही, उन्होंने अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस लेने के फैसले का भी स्वागत किया है.

प्रधानमंत्री रविवार को 12 करोड़ किसानों को 25,000 करोड़ रुपये आवंटित करेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में ‘किसान सम्मान निधि योजना’ की शुरुआत करेंगे. द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री द्वारा इस योजना के तहत देशभर के करीब 12 करोड़ किसानों को कुल 25,000 करोड़ रुपये की रकम बैंक खाते द्वारा आवंटित की जाएगी. इस योजना का एलान साल 2018-19 के अंतरिम बजट में किया गया था. इसके लिए केंद्र सरकार ने बजट में कुल 75,000 करोड़ रुपये आवंटित किए थे. बताया जाता है कि इस योजना के तहत देश के 12 करोड़ सीमांत किसानों को हर साल तीन किस्तों में कुल 6,000 रुपये की रकम दी जाएगी.

सुप्रीम कोर्ट ने लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोड़गे को सीओए सदस्य और पूर्व न्यायाधीश डीके जैन को बीसीसीआई का पहला लोकपाल नियुक्त किया

सुप्रीम कोर्ट ने लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोड़गे को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की प्रशासकों की समिति (सीओए) का तीसरा सदस्य नियुक्त किया है. नवभारत टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक इस नियुक्ति के बाद रवि थोड़गे ने कहा, ‘मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं कि मुझे सुप्रीम कोर्ट ने सीओए सदस्य के तौर पर काम करने का मौका दिया है. मैं भारतीय सेना में भी खेल गतिविधियों में सक्रिय रहा हूं. लेकिन, खेल प्रशासन में यह मेरा पहला मौका है.’ वहीं, शीर्ष अदालत ने पूर्व न्यायाधीश डीके जैन को बीसीसीआई का पहला लोकपाल नियुक्त किया है. बताया जाता है कि लोकपाल खिलाड़ियों के कदाचार, नियमों के उल्लंघन के मामले और एसोसिएशन के मामलों का निपटारा करेगा. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने सीओए प्रमुख विनोद राय और सदस्य डायना एडुल्जी के बीच मतभेद पर नाराजगी भी जाहिर की.

उत्तर प्रदेश : गठबंधन को लेकर भाजपा की मुश्किलें बढ़ीं

गठबंधन के लिहाज से महाराष्ट्र और तमिलनाडु में राहत हासिल करने वाली भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश में मुश्किलें बढ़ती हुई दिख रही हैं. अमर उजाला की खबर के मुताबिक राज्य में पार्टी के सहयोगी दल एनडीए से अलग संभावनाओं की तलाश में दिख रहे हैं. इनमें अपना दल की संरक्षक अनुप्रिया पटेल और अध्यक्ष आशीष पटेल गुरुवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा और ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिले. इस मुलाकात के बाद अपना दल के अध्यक्ष ने कहा, ‘गठबंधन धर्म को ईमानदारी से निभाने के बाद भी हमारी नहीं सुनी गई. हमें सम्मान तक के लायक नहीं समझा गया. अब हम निर्णय लेने के लिए आजाद हैं.’ वहीं, बताया जाता है कि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओमप्रकाश राजभर भी समाजवादी पार्टी के संपर्क में हैं.