देश की जीडीपी वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्ट्रबर- दिसंबर) में 6.6 प्रतिशत रही. यह आंकड़ा पिछली पांच तिमाहियों में सबसे कम है. वित्त वर्ष 2017-18 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 7.7 प्रतिशत रही थी.

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, ‘2018-19 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में वर्ष 2011-12 की स्थिर कीमतों के आधार पर देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 35 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है. वित्त वर्ष 2017-18 की इसी तिमाही में यह 32.85 लाख करोड़ रुपये थी. इस प्रकार तीसरी तिमाही के दौरान आर्थिक वृद्धि घटकर 6.6 प्रतिशत रही है.’ केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के बयान के मुताबिक स्थिर मूल्य पर चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में देश की आर्थिक वृद्धि दर 8 प्रतिशत और दूसरी तिमाही में 7 प्रतिशत रही.

आंकड़ों के मुताबिक, 2018-19 के दौरान देश की आर्थिक वृद्धि दर सात प्रतिशत रहने का अनुमान है. जबकि इस माह की शुरुआत में केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने चालू वित्त वर्ष में देश की जीडीपी वृद्धि दर 7.2 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया था.