पाकिस्तान की तरफ से वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान को नोबेल शांति पुरस्कार दिलाने की कवायद को लेकर इमरान खान ने एक बड़ा बयान दिया है. एक ट्वीट में इमरान खान ने कहा है, ‘मैं नोबे​ल का शांति सम्मान पाने के काबिल नहीं हूं. इसी ट्वीट में उन्होंने आगे लिखा है, ‘यह सम्मान पाने का हकदार वह है जो कश्मीरियों की इच्छा के मुताबिक कश्मीर विवाद का समाधान कर दे. साथ ही पूरे महाद्वीप में शांति और मानवता के विकास की राह तैयार करे.’

इससे पहले बीते हफ्ते भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की रिहाई के फैसले के मद्देनजर वहां की संसद में दो मार्च को एक प्रस्ताव पेश किया गया था. उस प्रस्ताव में कहा गया था कि अभिनंदन को रिहा करके इमरान खान ने जिम्मेदाराना बर्ताव किया है और इसके लिए वे (इमरान खान) नोबेल शांति पुरस्कार के हकदार हैं.

बताया जाता है कि इस प्रस्ताव के समर्थन में पाकिस्तान के करीब तीन लाख लोग अपने हस्ताक्षर भी कर चुके हैं. उनका मानना है कि पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच पनपे आपसी तनाव को इमरान खान ने अपने इस फैसले से कम किया है.

उधर, पुलवामा आतंकी हमले के बाद बीते मंगलवार को भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के एक कैंप को निशाना बनाया था. इसके अगले दिन पाकिस्तानी वायु सेना ने भारतीय वायुक्षेत्र में घुसकर जवाबी कार्रवाई की थी. तब पाकिस्तानी विमानों को खदेड़ते हुए अभिनंदन का विमान पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में क्रैश हो गया था. पैराशूट से पाकिस्तान की जमीन पर सुरक्षित उतरने के बाद उन्हें वहां की सेना ने हिरासत में ले लिया था.