प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात की एक जनसभा में एक बार फिर विपक्षी दलों पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘आतंकवाद के मुद्दे पर एकजुट होने के बजाय विपक्षी दल मुझे सत्ता से हटाने की कवायद में जुटे हुए हैं.’ उनके इस बयान को आज के कई अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कहा, ‘दिल्ली में मैंने यह भी कहा था कि देश के पास अगर रफाल विमान होते तो परिणाम अलग होते. लेकिन मेरी यह बात कुछ लोगों को समझ में नहीं आई. उन्हें लगा कि मैं वायु सेना के पराक्रम पर सवाल उठा रहा हूं. मैं समझता हूं कि जिसका जितना सामान्य ज्ञान है वह उतना ही समझेगा.’

पश्चिम बंगाल : कांग्रेस और सीपीएम के बीच आपसी रणनीतिक सहमति नहीं

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस और सीपीएम के बीच चुनाव को लेकर कोई रणनीतिक साझेदारी नहीं बन पाई है. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2014 के चुनाव में कांग्रेस ने 42 में से कुल चार सीटों पर कब्जा किया था. वहीं, सीपीएम के लिए यह आंकड़ा केवल दो था. बताया जाता है कि सीपीएम ने कांग्रेस को प्रस्ताव दिया था कि इन सभी छह सीटों पर एक-दूसरे के खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारे जाएं. लेकिन कांग्रेस ने सीपीएम की दो सीटों- रायगंज और मुर्शिदाबाद पर भी अपना दावा किया है. पार्टी का कहना है कि दोनों उनकी परंपरागत सीटें हैं. उधर, सीपीएम के महासचिव सीताराम येचुरी का कहना है, ‘सवाल यह नहीं है कि कौन कितने वोटों से जीता. पिछले पांच वर्षों में हालात बदले हैं, इसलिए रणनीति भी बदलने की जरूरत है.’

आम चुनाव की तारीखों के एलान में देरी को लेकर कांग्रेस का चुनाव आयोग पर निशाना

कांग्रेस ने आम चुनाव की तारीखों के एलान में देरी को लेकर चुनाव आयोग को कटघरे में खड़ा किया है. नवभारत टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा है कि क्या आयोग तारीखों की घोषणा करने के लिए प्रधानमंत्री के आधिकारिक कार्यक्रमों के पूरा होने का इंतजार कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘सरकारी कार्यक्रमों का इस्तेमाल राजनीतिक सभाओं, टीवी या रेडियो और प्रिंट पर विज्ञापनों के लिए हो रहा है. लग रहा है कि चुनाव आयोग सरकार को पूरी छूट दे रहा है कि वह आखिरी मिनट तक पैसे का इस्तेमाल करे.’ वहीं, बताया जाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार यानी छह मार्च को अपनी मौजूदा कैबिनेट की आखिरी बैठक करने वाले हैं. इसमें वे किसान सम्मान निधि के तहत दूसरी किस्त देने सहित कई अन्य फैसले ले सकते हैं.

हमने किसी को बाहर नहीं किया है : कुलदीप यादव

टीम इंडिया के उभरते युवा गेंदबाज कुलदीप यादव ने साफ किया है कि उन्होंने किसी को टीम से बाहर नहीं किया. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक कुलदीप से पूछा गया था कि क्या उनके और युजवेंद्र चहल के प्रदर्शन की वजह से वनडे टीम में आर अश्विन की जगह खत्म हुई है. इस पर कुलदीप ने कहा, ‘नहीं, ऐसा बिल्कुल नहीं है. हमने किसी को बाहर नहीं किया है. बात केवल इतनी सी है कि हमें मौके मिले और हमने अच्छा प्रदर्शन किया. उन्होंने भी भारत के लिए हमेशा अच्छा प्रदर्शन किया है. टेस्ट में अश्विन और जडेजा अभी भी खेल रहे हैं.’

दिल्ली हाई कोर्ट ने गुमशुदा बच्चों को लेकर बाल अधिकार संरक्षण आयोग को फटकार लगाई

दिल्ली हाई कोर्ट ने गुमशुदा बच्चों से जुड़े मामलों को गंभीरता से न लेने पर राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग को फटकार लगाई है. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक अदालत ने इन बच्चों की गुमशुदगी के मामले में आयोग की कार्रवाई को अपर्याप्त बताया है. वहीं, आयोग ने अदालत को बताया कि उसने गुमशुदा बच्चों से संबंधित 782 मामलों में पुलिस को नोटिस कर जवाब मांगा था. इस पर हाई कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की. अदालत का कहना है कि दिल्ली में एक साल में करीब 5,000 बच्चे लापता होते हैं. इस स्थिति में आयोग का यह आंकड़ा बहुत कम है..

जम्मू-कश्मीर : राजनीतिक दलों ने लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने की मांग की

जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दलों ने आयोग से राज्य में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ करवाने की मांग की है. दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक यह मांग चुनाव आयोग के जम्मू-कश्मीर दौरे के दौरान की गई. मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के नेतृत्व वाले दल के साथ बैठक के बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस ने कहा कि राज्य में अस्थिरता और असमंजस के दौर को खत्म करने के लिए चुनाव जरूरी है. वहीं, पीडीपी ने भी कहा है कि वह चुनावों के लिए तैयार है. इनके साथ कांग्रेस ने भी दोनों चुनाव एक साथ कराने पर जोर दिया है. हालांकि, बताया जाता है कि भाजपा ने एक साथ दोनों चुनाव पर अपना रुख साफ नहीं किया.