हैदराबाद के एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में शिशुओं को वैक्सीन के बाद गलत दवाई दिए जाने का मामला सामने आया है. स्क्रोल डॉट इन के मुताबिक इस गलती की वजह से डेढ़ महीने के एक नवजात की मौत हो गई. साथ ही 22 अन्य शिशु बीमार भी हो गए जिनमें से तीन को वेंटीलेटर पर रखा गया है. कथित तौर पर वैक्सीन लगाने के बाद शिशुओं को पैरासिटामॉल के बजाय ट्रेमाडोल की दवाई दी गई थी. यह गलती दो अलग-अलग दवाइयों की एक जैसी पैकिंग होने की वजह से हुई.

इस दौरान बीमार बच्चों को शहर के नीलोफर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. यहां के सुपरिंटेंडेंट डॉक्टर मुरली कृष्णा के मुताबिक डिप्थीरिया, काली खांसी, टेटनेस, हैपेइटिस बी और हीमोफीलियस इन्फ्यूएंजा टाइप बी जैसे रोगों से बचाव के लिए शिशुओं को वैक्सीन दी जाती है. नियम के मुताबिक वैक्सीन लगाने के बाद बच्चों को बुखार से बचाने के लिए उन्हें पैरासिटामॉल की खुराक दी जाती है. लेकिन हैल्थ सेंटर में उसके बजाय उन्हें गलती से ट्रेमाडोल दे दी गई. इसकी वजह से शिशु बीमार पड़ गए.

इधर, पीड़ित शिशुओं का हाल जानने के लिए स्थानीय विधायक जफर हुसैन भी अस्पताल पहुंचे. वहां उनके परिवारवालों से मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि शिशुओं को इसी बुधवार को वैक्सीन लगाने के बाद दवाई दी गई थी. दवाई खिलाए जाने के बाद उनकी ​तबियत बिगड़ने लगी जिसके बाद गुरुवार की सुबह उन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया.

इस बीच मृतक शिशु के परिवारवालों ने अस्पताल के बाहर इस मामले को लेकर विरोध-प्रदर्शन भी किया. मामले को शांत कराने के लिए स्थानीय पुलिस का सहारा भी लेना पड़ा. मिली जानकारी के मुताबिक इस पूरे घटनाक्रम को लेकर पुलिस ने फिलहाल कोई मामला दर्ज नहीं किया है.