‘भाजपा के साथ दोबारा गठजोड़ करने से पहले नीतीश कुमार को नया जनादेश हासिल करना चाहिये था.’  

— प्रशांत किशोर, जनता दल यूनाइटेड के उपाध्यक्ष

प्रशांत किशोर ने यह बात एक इंटरव्यू के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा कि वे अपनी पार्टी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ दोबारा गठजोड़ के ‘तरीके’ से सहमत नहीं हैं. इसके साथ ही उनका यह भी कहना था, ‘जुलाई 2017 में महागठबंधन से अलग होने का नीतीश कुमार का फैसला सही था या नहीं, इसे मापने का कोई पैमाना नहीं है.’ प्रशांत किशोर के मुताबिक, ‘बिहार के हितों को ध्यान में रखते हुए मेरा मानना है कि नीतीश कुमार का वह फैसला सही था.’

‘लखनऊ में कश्मीरियों पर हमला करने वाले लोग सिरफिरे हैं.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात कानपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने बीते बुधवार को हुई उस घटना को निंदनीय भी बताया. साथ ही इस मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस की त्वरित कार्रवाई के लिए राज्य सरकार की प्रशंसा भी की. नरेंद्र मोदी ने आगे कहा, ‘ऐसी घटनाओं के विरुद्ध देश को एकजुट रहने की जरूरत है. मैं दूसरे राज्यों की सरकारों से भी आग्रह करूंगा कि जहां कहीं भी कोई व्यक्ति ऐसी हरकत करने की कोशिश करे, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए.’


‘रफाल सौदे के दस्तावेजों के चोरी होने की बात पूरी तरह से गलत है.’  

— केके वेणुगोपाल, अटॉर्नी जनरल

केके वेणुगोपाल का यह बयान अपने ही एक बयान पर सफाई देते हुए आया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘रफाल सौदे से जुड़े गोपनीय दस्तावेज चोरी नहीं हुए हैं बल्कि उन दस्तावेजों की फोटोकॉपी की गई है.’ इससे पहले इसी हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान सरकार का पक्ष रखते हुए केके वेणुगोपाल ने खुद रफाल विमान सौदे के दस्तावेजों के चोरी होने की बात कही थी.


‘रफाल सौदे से जुड़े गोपनीय दस्तावेजों के चोरी होने की जांच मनोहर पर्रिकर के घर से शुरू होनी चाहिए.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी का यह बयान केके वेणुगोपाल के बयान पर निशाना साधते हुए आया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर पूर्व में दावा कर चुके हैं कि रफाल सौदे से जुड़ी कई फाइलें उनके घर पर रखी हुई हैं.’ राहुल गांधी के मुताबिक गोपनीय दस्तावेजों का चोरी होना गंभीर मामला है. इसकी आपराधिक जांच कराई जानी चाहिए.


‘भारत और पाकिस्तान को अपना संकट अवसर में तब्दील करना चाहिए.’  

— वांग यी, चीन के विदेश मंत्री

वांग यी ने यह बात चीन में एक प्रेस कॉन्फरेंस के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘हमने शुरुआत से ही दोनों देशों के संयम बरतने पर जोर दिया. हमारी अब भी दोनों पड़ोसी देशों को यही सलाह है कि वे मौजूदा हालात से जल्दी बाहर निकलें. अपने संबंधों में सुधार के लिए बुनियादी और दीर्घकालिक उपायों पर काम करें.’ वांग यी का यह भी कहना था कि भारत और पाकिस्तान के बीच उपजे हालिया तनाव को कम करने में चीन ने मध्यस्थता की ​थी.