ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जाविद ने भारत के भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए भारत सरकार की तरफ से अर्जी मिलने की पुष्टि की है. माना जा रहा है कि अगले कुछ हफ्तों में नीरव मोदी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हो सकता है. पीटीआई के मुताबिक भारत-ब्रिटेन प्रत्यर्पण संधि के तहत, नीरव के खिलाफ वारंट जारी कराने के लिए लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में कागजात दाखिल किए जा रहे हैं. अदालती वारंट पर स्कॉटलैंड यार्ड (पुलिस विभाग) आगे की कार्रवाई करेगा.

लंदन में भारतीय उच्चायोग ने अगस्त, 2018 के दौरान इस बात की पुष्टि की थी कि भारत ने ब्रिटेन सरकार को नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए अर्जी दी है और इस पर ब्रिटेन सरकार विचार कर रही है.

शनिवार को ही ब्रिटेन के अख़बार ‘द टेलीग्राफ’ ने खबर दी थी कि नीरव मोदी लंदन में हीरों का कारोबार चला रहा है. इस ख़बर के साथ एक वीडियो भी सार्वजनिक किया गया है. इसमें नीरव मोदी को ‘ऑस्ट्रिच हाइड’ ब्रांड की महंगी जैकेट पहने हुए दिखाया गया है. इस जैकेट की कीमत भारतीय मुद्रा में लगभग नौ लाख रुपए बताई जाती है. इस वीडियो में नीरव मोदी को पहचान लेने के बाद जब एक पत्रकार उससे बात करने की कोशिश करता है तो वह ‘नो कॉमेंट’ कहकर आगे बढ़ जाता है. इस खबर में यह भी बताया गया है कि लंदन के पॉश इलाके ‘सेंटर प्वाइंट’ की एक रिहायशी इमारत में नीरव मोदी तीन बेडरूम वाले फ्लैट में रहता है. इस फ्लैट का किराया लगभग 15 लाख रुपए महीना है.

भारत में नीरव मोदी पर आरोप है कि उसने अपने रिश्तेदार मेहुल चौकसी के साथ मिलकर पंजाब नेशनल बैंक से 13,500 करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज़ लिया. फिर उसे चुकाए बिना दोनों जनवरी-2018 में देश छोड़कर भाग गए. मेहुल चौकसी इस वक़्त एंटीगुआ में है. उसने वहां की नागरिकता ले रखी है. भारतीय एजेंसियों ने दोनों को कानूनन ‘भगोड़ा आर्थिक अपराधी’ घोषित कराया है. भारत में उनकी संपत्तियां ज़ब्त कर ली गई हैं. इसके अलावा उन्हें भारत लाने के लिए प्रत्यर्पण की प्रक्रिया भी आगे बढ़ाई जा रही है.