प्रियंका गांधी वाड्रा ने मंगलवार को गुजरात के गांधीनगर में एक रैली की. कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव नियुक्त किए जाने के बाद यह पहले मौका था जब उन्होंने किसी जनसभा को संबोधित किया. प्रियंका गांधी ने कहा, ‘देश में आज जो कुछ हो रहा है, उसे देखकर मुझे दुख होता है. आज चारों तरफ नफरत फैलाई जा रही है. संस्थान संकट में हैं. प्रतिभाओं को खत्म किया जा रहा है. लेकिन इस सबमें देश की जनता ही बदलाव ला सकती है.’ उनके इस बयान को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. प्रियंका गांधी ने आगे कहा, ‘आने वाले दिनों में चुनाव होने हैं. ऐसे में रोजगार, महिलाओं की सुरक्षा, खेती-किसानी जैसे कई मुद्दे उठेंगे. आप लोगों को समझना होगा देश के लिए जरूरी मुद्दे कौन से हैं. साथ ही, यह भी परखना होगा कि उन मुद्दों को कौन पूरा करेगा.’

जनप्रतिनिधियों की संपत्ति पर स्थायी निगरानी तंत्र न होने को लेकर केंद्र को सुप्रीम कोर्ट की फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने जनप्रतिनिधियों की संपत्ति में बेतहाशा बढ़ोतरी पर अपने आदेश का पालन न किए जाने को लेकर केंद्र सरकार को फटकार लगाई है. साथ ही, उसने एक साल पहले के इस आदेश पर कानून मंत्रालय के विधायी सचिव से दो हफ्ते के भीतर जवाब मांगा है. दैनिक जागरण के के मुताबिक मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने यह कदम एक याचिका पर सुनवाई के दौरान उठाया है. इस याचिका में केंद्र सरकार पर बीते साल 16 फरवरी को जारी सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन न करने का आरोप लगाया गया है. याचिकाकर्ता एनजीओ लोकप्रहरी ने कहा है कि शीर्ष अदालत ने अपने आदेश में कहा था कि सांसदों और विधायकों की संपत्ति में बेतहाशा बढ़ोतरी पर निगाह रखने के लिए सरकार को एक स्थायी निगरानी तंत्र बनाना चाहिए लेकिन, सरकार ने आज तक इस पर कुछ नहीं किया.

लोकसभा चुनाव में पार्टियों द्वारा पैसे के दुरुपयोग को रोकने के लिए निगरानी कमेटी

लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों की ओर से पैसे के दुरुपयोग को रोकने के लिए चुनाव आयोग ने एक कमेटी गठित की है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक इस कमेटी में बतौर सदस्य सीबीआई के पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को भी शामिल किया गया है. इस कमेटी की पहली बैठक 15 मार्च को होगी जिसमें मुख्य चुनाव आयुक्त और अन्य दो आयुक्त भी शामिल होंगे. बताया जाता है कि इस कमेटी का अधिक ध्यान दक्षिण भारत के चार राज्यों- तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना पर होगा.

अयोध्या विवाद : मुसलमान पक्षकारों ने मध्यस्थता समिति में श्री श्री रविशंकर का विरोध किया

अयोध्या विवाद को सुलझाने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई समिति बुधवार को पक्षकारों और अपीलकर्ताओं के साथ बैठक करेगी. वहीं, इससे पहले मंगलवार को मुसलमान पक्षकारों ने इस तीन सदस्यीय समिति में श्री श्री रविशंकर को शामिल करने पर एतराज जाहिर किया है. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक बाबरी मस्जिद समिति ने पक्षकारों और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के पदाधिकारियों के साथ लखनऊ में बैठक की थी. इस बारे में पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा, ‘श्री श्री कुछ दिन पहले इस मामले में विवादित बयान दे चुके हैं. इस वजह से अयोध्या के साधु-संत भी उन्हें पैनल में शामिल करने से नाराज हैं. हम साधु-संतों के साथ हैं,’

महाराष्ट्र : प्रकाश अंबेडकर ने सभी 48 सीटों पर लड़ने का एलान किया

वंचित बहुजन आघाडी मोर्चा के प्रमुख प्रकाश अंबेडकर ने महाराष्ट्र की सभी 48 लोकसभा सीटों पर अकेले लड़ने का एलान किया है. द एशियन एज में प्रकाशित खबर के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर कई प्रस्ताव आए थे लेकिन, कुछ नहीं हुआ. वंचित बहुजन आघाडी ने पहले ही अपने 22 उम्मीदवारों के नामों का एलान कर दिया है, बाकी का भी जल्द ही कर दिया जाएगा.’ बताया जाता है कि डॉ बीआर अंबेडकर के पौत्र प्रकाश खुद सोलापुर से चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं. वहीं, कांग्रेस की ओर से इस सीट पर पूर्व गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे उम्मीदवार हो सकते हैं.

एक हफ्ते बाद भी भाजपा की वेबसाइट ‘अंडर मेंटेनेंस’

एक हफ्ते बाद भी भाजपा की वेबसाइट दुरुस्त नहीं हो पाई है. द टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक बीती पांच मार्च को पार्टी की वेबसाइट हैक कर ली गई थी. इसके कुछ देर बाद वेबसाइट के होमपेज पर जल्दी वापस आने का संदेश दिया गया था. हालांकि, वेबसाइट को अब तक ‘अंडर मेंटेनेंस’ बताया जाता रहा है. वहीं, पार्टी ने अब तक आधिकारिक रूप से अपनी वेबसाइट के हैकिंग का शिकार होने की बात स्वीकार नहीं की है. इससे पहले कांग्रेस की भी वेबसाइट को हैक किया गया था लेकिन, इसे जल्द ही शुरू कर दिया गया.