कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को ग़लती कर गए. उन्होंने चेन्नई में युवाओं के एक कार्यक्रम में भगोड़े आर्थिक अपराधी नीरव मोदी को ‘नरेंद्र’ बोल दिया. हालांकि उन्होंने तुरंत इस ग़लती को सुधार भी लिया.

एनडीटीवी के मुताबिक युवाओं को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘हम ये चाहते हैं कि देश का जो पैसा नरेंद्र....नहीं नरेंद्र नहीं... नीरव मोदी जैसे 15-17 बड़े कारोबारियों के पास जा रहा है उसे वापस लिया जाए.’ उनके इतना कहते ही पूरा सभागार ठहाकों से गूंज उठा. राहुल गांधी भी मुस्कुराए और फिर बोले, ‘इस पैसे (कारोबारियों से वापस लिए जाने वाले) की मदद से ऐसी बैंकिंग व्यवस्था संचालित की जाए जो आप जैसे युवा महिला-पुरुषों को अपना कारोबार शुरू करने के लिए आसानी से कर्ज़ मुहैया करा सके.’

इसी कार्यक्रम में राहुल गांधी ने सवाल उठाया, ‘नीरव मोदी और उसका रिश्तेदार मेहुल चौकसी 13,000 करोड़ रुपए से अधिक के बैंक कर्ज़ घोटाले के आरोपित हैं. ऐसे ही अनिल अंबानी भी. मैं पूछता हूं नीरव मोदी ने इस देश के लिए कितने रोजग़ार सृजित किए? मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि अगर आप युवाओं को सरकार कारोबार शुरू करने के लिए 30 लाख रुपए की मदद दे दे तो आप उससे (नीरव मोदी) कहीं अधिक रोजग़ार सृजित कर सकते हैं. कांग्रेस पार्टी यही करना चाहती है.’