आम आदमी पार्टी (आप) भले ही दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं कर पाई हो, लेकिन उसने अभी–भी उम्मीद नहीं छोड़ी है. दिल्ली के मुख्यमंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल अब कोशिश कर रहे हैं कि आप और कांग्रेस का हरियाणा में गठबंधन हो जाए. उन्होंने कहा है कि अगर कांग्रेस, जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) और आप का गठबंधन बन जाता है तो यह राज्य की सभी 10 लोकसभा सीटें जीत सकता है. हरियाणा में 12 मई को लोकसभा चुनाव के लिए मतदान होना है.

अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी इस देश के लिए खतरनाक है. आज देश साफ-साफ ऐसे दो तरह के लोगों के बीच बंट चुका है. एक मोदी भक्त हैं और दूसरे जो उन्हें हराना चाहते हैं. जो लोग उन्हें हराना चाहते हैं उनकी संख्या ज्यादा है लेकिन वे बंटे हुए हैं. उन्हें एकजुट होने की जरूरत है क्योंकि इसके बिना मोदी और शाह फायदा उठा रहे हैं.’

इसके आगे केजरीवाल का कहना था, ‘मैं राहुल गांधी को यह प्रस्ताव देना चाहता हूं कि अगर जेजेपी, आप और कांग्रेस हरियाणा में मिलकर चुनाव लड़ते हैं तो हम भाजपा को सभी 10 लोकसभा सीटों पर हरा सकते हैं. जहां तक दिल्ली की बात है तो यहां हम बिना कांग्रेस के भी जीतने जा रहे हैं.’ बीते साल दिसंबर में इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) ने अजय चौटाला और उनके बेटे दुष्यंत को पार्टी से निकाल दिया था. इसके बाद दुष्यंत की अगुवाई में जेजेपी का गठन हुआ था.

मार्च की शुरुआत में ही कांग्रेस की दिल्ली इकाई की अध्यक्ष शीला दीक्षित ने आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन की संभावना को खारिज कर दिया था. हालांकि इससे पहले अरविंद केजरीवाल इसके लिए काफी जोर लगाए हुए थे. वहीं इसी हफ्ते राहुल गांधी भी पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत में कह चुके हैं कि कांग्रेस दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी.