उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से शनिवार के दिन भारतीय जनता पार्टी को दो बड़े झटके लगे. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज से सांसद श्यामा चरण गुप्ता और उत्तराखंड के पूर्व भाजपाई मुख्यमंत्री बीसी खंडूरी के पुत्र मनीष ने पार्टी छोड़ दी है.

ख़बरों के मुताबिक मनीष खंडूरी ने उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में कांग्रेस की परिवर्तन रैली के दौरान पार्टी की सदस्यता ली. इस रैली को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने संबोधित किया. उन्होंने कहा, ‘मनीष खंडूरी आज अगर यहां (कांग्रेस में) हैं तो इसकी वज़ह है. मनीष के पिता बीसी खंडूरी संसद की रक्षा मामलों की समिति के अध्यक्ष थे. उन्होंने अपनी पूरी ज़िंदगी देश और उसकी सेना की सेवा में लगा दी. लेकिन जब उन्होंने संसदीय समिति के अध्यक्ष होने के नाते राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले पर सरकार से सवाल किया तो उन्हें नरेंद्र मोदी ने उनके पद से हटा दिया. मतलब साफ है, भाजपा में सच्चाई के लिए कोई जगह नहीं है.’

उधर उत्तर प्रदेश में प्रयागराज से भाजपा सांसद एससी गुप्ता ने भी पार्टी छोड़ दी है. वे समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं. ख़बर है कि सपा उन्हें बांदा से टिकट दे रही है. गुप्ता का सपा से पुराना नाता है. वे 1999 में बांदा से सपा के टिकट पर ही चुनाव लड़े थे. लेकिन बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी से हार गए. इसके बाद उन्होंने 2004 में फिर यहीं से सपा प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा. इस बार उन्हें जीत मिली. फिर 2009 में फूलपुर लोक सभा सीट से सपा के टिकट पर ही उन्हें जीत हासिल हुई. वे 2014 में भाजपा में शामिल हो गए थे. पार्टी ने उन्हें इलाहाबाद (अब प्रयागराज) से चुनाव लड़ाया था. उन्हें उसमें भी जीत हासिल हुई थी.