भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई ने चुनाव आयोग से राज्य की मस्जिदों के पास ‘विशेष पर्यवेक्षक’ तैनात करने की मांग की है. इस संबंध में भाजपा ने दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी को एक चिट्ठी भी लिखी है. इसमें उसने कहा है मुस्लिम बहुल इलाकों की मस्जिदों में यदि यह व्यवस्था की जाती है तो इससे राजनीतिक और धार्मिक नेता नफरत का संदेश नहीं दे सकेंगे. साथ ही ऐसा होने से लोकसभा के आगामी चुनाव को निष्पक्षता के साथ कराने में मदद मिलेगी.

भाजपा का यह भी कहना है कि प्रदेश की मस्जिदों में अक्सर अल्पसंख्यक वर्ग को प्रभावित करने वाली तकरीरें दी जाती हैं. ऐसा रोजमर्रा या फिर जुमे (शुक्रवार) को पढ़ी जाने वाली विशेष नमाज के दौरान होता है. भाजपा ने आगे कहा, ‘मई के महीने में जब चुनावी प्रक्रिया अंतिम चरण में होगी तो उस वक्त रमजान का पवित्र महीना भी चलेगा. उस समय भड़काऊ भाषणों से वर्ग विशेष को प्रभावित किए जाने की प्रबल संभावना है. ऐसे में निष्पक्ष चुनाव के लिए चुनाव आयोग को इस पहलू पर भी ध्यान देना चाहिए.’

इसके साथ ही भाजपा ने आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर मुस्लिम इलाकों में मतदाताओं का ध्रुवीकरण करने की कोशिश का आरोप भी लगाया है. उसके मुताबिक अरविंद केजरीवाल ने कथित तौर पर कई इलाकों में अल्पसंख्यक वर्ग को भड़काने वाले भाषण दिए हैं.