उद्यमी अनिल अंबानी ने ‘मुश्किल समय में’ साथ खड़े रहने और मदद करने के लिए अपने बड़े भाई मुकेश अंबानी का शुक्रिया अदा किया है. सोमवार को स्वीडन की टेलीकॉम कंपनी एरिक्सन को शेष बकाया रकम चुकाने के बाद जारी एक बयान में उन्होंने यह बात कही. एनडीटीवी के मुताबिक अनिल अंबानी ने कहा, ‘मैं अपने आदरणीय बड़े भाई मुकेश और (उनकी पत्नी) नीता का दिल से शुक्रिया अदा करता हूं कि वे मुश्किल समय में मेरे और परिवार के साथ खड़े रहे.’ रिलायंस कम्युनिकेशन (आरकॉम) के मालिक ने कहा कि वे और उनका परिवार इन सबसे बाहर निकल गया है और काफी भावुक है.

गौरतलब है कि आरकॉम पर एरिक्सन के 458.77 करोड़ रुपये बकाया थे. पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट ने कंपनी को आदेश दिया था कि वह चार हफ्ते के अंदर एरिक्सन का बकाया चुकाए. कोर्ट ने कहा था कि ऐसा न होने की सूरत में अनिल अंबानी और उनकी कंपनी के दो निदेशकों को तीन महीने की जेल काटनी होगी. हालांकि इससे पहले ही सोमवार को अनिल ने बकाया रकम चुका दी.

मुकेश और अनिल अंबानी के पिता धीरूभाई अंबानी का 2002 में निधन हो गया था. उस समय तक उन्होंने अपनी कोई वसीयत नहीं बनाई थी. पिता के निधन के बाद दोनों भाइयों में व्यापार को लेकर कलह हो गया था. इसका समाधान बंटवारे के रूप में हुआ. अनिल अंबानी ने जहां पावर और टेलीकॉम सेक्टर अपने पास रखे, वहीं मुकेश अंबानी के हिस्से तेल और पेट्रोकेमिकल का बिजनेस आया. हालांकि दोनों की तनातनी आगे भी जारी रही. बाद में 2010 में उनकी मां कोकिलाबेन अंबानी को इसमें हस्तक्षेप करना पड़ा.

लेकिन इसके कुछ हफ्तों बाद ही अनिल अंबानी ने मुकेश अंबानी के खिलाफ 10,000 करोड़ रुपये का मानहानि का दावा ठोक दिया. बताया जाता है कि मुकेश ने छोटे भाई के खिलाफ कुछ टिप्पणियां की थीं जो उस समय अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित हुई थीं. हाल में मुकेश और नीता के बेटे आकाश अंबानी की शादी में अनिल और टीना अंबानी परिवार के साथ नजर आए थे. उससे पहले ईशा अंबानी की शादी में भी वे शामिल हुए थे.