जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के एक बयान पर पलटवार करते हुए उन्हें ‘नसीहत’ दी है. एक ट्वीट के जरिये जेडीयू उपाध्यक्ष ने कहा है, ‘हार की आशंका सबसे अनुभवी राजनेताओं को भी परेशान कर सकती है. इसलिए मैं उनके आधारहीन शब्दों से हैरान नहीं हूं.’ इसी ट्वीट के जरिये प्रशांत किशोर ने यह भी कहा है, ‘बिहार के खिलाफ अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल करने के बजाय आपको इस पर ध्यान देना चाहिए कि आंध्र प्रदेश के लोग आपको फिर से वोट क्यों दें.’

इससे पहले इसी सोमवार को चंद्रबाबू नायडू ने प्रशांत किशार पर आंध्र प्रदेश की मतदाता सूचियों से लाखों मतदाताओं के नाम कटवाने के आरोप लगाए थे. एक चुनावी रैली में उन्होंने प्रशांत किशोर को ‘बिहारी तर्ज वाली राजनीति’ दक्षिण के राज्यों में लाने के खिलाफ चेतावनी दी थी. इसके साथ ही उन्होंने कहा था, ‘बिहार के एक राजनीतिक कंसल्टेंट हैं, पीके (प्रशांस किशोर). वे जगन रेड्डी (वाईएसआर कांग्रेस के नेता) के लिए सर्वे और रणनीति बनाने का काम कर रहे हैं... इस बिहारी डकैत ने कई मतदाताओं के नाम मतदाता सूचियों से कटवाए हैं.’

इसके साथ ही नायडू ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव पर ‘आपराधिक राजनीति’ करने का आरोप भी लगाया था. साथ ही यह भी कहा था कि चंद्रशेखर राव तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के विधायकों को अपनी तरफ करने की कोशिश कर रहे हैं.