जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष के लोकपाल नियुक्त होने से जुड़ी खबर आज सोशल मीडिया पर काफी चर्चा में है. इसके चलते ट्विटर पर #Lokpal ट्रेंडिंग टॉपिक बना है. यहां ज्यादातर लोगों ने देश को पहला लोकपाल मिलने पर खुशी जाहिर करते हुए टिप्पणियां की हैं. हालांकि इसके साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि यह बहुत देर से उठाया गया कदम है. इस पर प्रमोद बगडे का तंजभरा ट्वीट है, ‘यह लोकपाल नहीं, लेटपाल है.’

अन्ना हजारे ने 2011 में लोकपाल की नियुक्ति के लिए अब तक का सबसे चर्चित आंदोलन चलाया था. यही वजह है कि फेसबुक और ट्विटर पर इस खबर के हवाले से लोगों ने उन्हें भी याद किया है. मनोज कुमार शर्मा का ट्वीट है, ‘देर आयद, दुरुस्त आयद... लोकपाल अब एक हकीकत है. अन्ना हजारे और अन्य लोगों का आभार कि उन्होंने इसके लिए इतना लंबा संघर्ष किया था.’

सोशल मीडिया में लोकपाल नियुक्ति से जुड़ी खबर पर आई कुछ और खास प्रतिक्रियाएं :

कुलदीप कादयान‏ | @KuldeepKadyan

जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष देश के पहले लोकपाल बने… आखिरकार मोदी जी की पूरे पांच साल की सरकार के बाद ही देश को पहला लोकपाल मिल पाया है!

चौकीदार अजातशत्रु | @Akg4ward

लोकपाल नियुक्ति की खबर सुनने के बाद :

नवीन कुमार | @NaveenYdv8

आखिरकार भारत को पहला आधिकारिक चौकीदार मिल गया है.

गप्पिस्तान रेडियो | @GappistanRadio

लोकपाल की नियुक्ति हो गई है तो अब अन्ना हजारे को इस खुशी के मौके पर भी एक अनशन करना चाहिए.

वीवीआईपी चौकीदार |‏ @MrVVIPAK

अब चूंकि लोकपाल की नियुक्ति हो गई है तो अरविंद केजरीवाल को आम आदमी पार्टी खत्म कर देनी चाहिए.