उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि वे इस बार लोक सभा चुनाव नहीं लड़ेंगी. इसके बजाय वे बसपा और समाजवादी पार्टी गठबंधन के प्रत्याशियों के पक्ष में चुनाव प्रचार करेंगी.

मायावती ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मीडिया के प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए कहा, ‘मैं चुनाव नहीं लड़ूंगी. मुझे भरोसा है कि मेरी पार्टी मेरे इस फ़ैसले को पूरी तरह स्वीकार करेगी. उसे समझेगी. मेरी इच्छा होगी तो मैं बाद में चुनाव लड़ूंगी. हमारा गठबंधन (सपा-बसपा-आरएलडी) का गठबंधन राज्य में अच्छा काम कर रहा है. मैं इस गठबंधन के अधिक से अधिक प्रत्याशियाें की जीत सुनिश्चित करने के लिए मेहनत करूंगी.’

ग़ौरतलब है कि इस बार मायावती ने अपने धुर विरोधी अखिलेश यादव की सपा से गठबंधन किया है. दोनों पार्टियां साथ मिलकर अब भारतीय जनता पार्टी को हराने का लक्ष्य लेकर चल रही हैं. इस गठबंधन में पूर्व केंद्रीय मंत्री अजीत सिंह की आरएलडी (राष्ट्रीय लोकदल) तीसरी पार्टी है. वहीं भाजपा अपने पुराने सहयोगियों- अपना दल और सुहैलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ मैदान में है. जबकि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में अकेले चुनाव लड़ रही है.