अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भारत को दुनिया की उन बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बताया है जो सबसे तेज गति से आगे बढ़ रही हैं. उसने कहा है कि बीते पांच सालों में भारतीय अर्थव्यवस्था में कई बड़े सुधार किए गए हैं. हालांकि आईएमएफ ने यह भी कहा कि अभी बहुत किया जाना बाकी है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक गुरुवार को आईएमएफ के संचार निदेशक गेरी राइस ने भारत के आर्थिक विकास से जुड़े सवाल पर कहा, ‘इसमें कोई शक नहीं कि बीते पांच सालों में औसतन सात प्रतिशत की विकास दर के साथ भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्थाओं में से एक रहा है. कई महत्वपूर्ण सुधार किए गए हैं. हमें लगता है कि विकास दर को बनाए रखने के लिए आगे भी ऐसे कदम उठाए जाते रहने चाहिए.’

गेरी ने कहा कि आईएमएफ अगले महीने विश्व बैंक से होने वाली अपनी बैठक में अपनी वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक सर्वे रिपोर्ट जारी करेगा. इसमें भारत की अर्थव्यवस्था के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाएगी. भारतीय मूल की अमेरिकी अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ के आईएमएफ प्रमुख बनने के बाद यह संस्थान की पहली रिपोर्ट होगी.