बिहार में महागठबंधन के भीतर सीट बंटवारे का एलान शुक्रवार को कर दिया गया. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. इस महागठबंधन में सबसे बड़ी पार्टी राजद के हिस्से 20 सीटें आई हैं. वहीं, कांग्रेस को नौ सीटें मिली है. इनके अलावा उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा को पांच, जीतनराम मांझी की ‘हम’ और मुकेश साहनी की वाआईपी को तीन-तीन सीटें मिली है. बताया जाता है कि पूर्व राज्यसभा सांसद शरद यादव और सीपीआई-एमएल के एक उम्मीदवार को राजद के चिन्ह पर ही चुनावी मैदान में उतारा जाएगा. माना जा रहा था कि सीटों के बंटवारे के साथ-साथ कौन सी पार्टी किन सीटों पर लड़ेगी, इसका भी एलान किया जाएगा. लेकिन, ऐसा नहीं हुआ और केवल चार सीटों- औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई से उम्मीदवारों के नाम घोषित किए गए.

भाजपा उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी, संबित पात्रा पुरी से प्रत्याशी

भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने 36 उम्मीदवारों की तीसरी सूची शुक्रवार देर रात जारी कर दी है. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा को ओडिशा के पुरी सीट से उम्मीदवार बनाया गया है. इससे पहले इस सीट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उतरने की चर्चा थी. वहीं, महाराष्ट्र की बारामती सीट पर पार्टी ने कंचन राहुल कुल को उतारा है. इस सीट पर एनसीपी की ओर से शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले उम्मीदवार हैं. भाजपा ने तीसरी सूची में आंध्र प्रदेश की 23 सीटों, महाराष्ट्र की छह, ओडिशा की पांच के साथ-साथ असम और मेघालय की एक-एक सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नामों का एलान किया है. इससे पहले पहली सूची में 184 और दूसरी सूची में एक नाम का एलान किया गया था.

जेट एयरवेज को वित्तीय संकट से निकालने को लेकर एसबीआई के खिलाफ बैंक यूनियन

जेट एयरवेज को वित्तीय संकट से निकालने को लेकर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) के सामने मुश्किलें खड़ी हो गई हैं. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक एसबीआई ने इसके लिए रेजॉल्यूशन प्लान तैयार किया था. इसे सरकार की मंजूरी भी मिल गई है. लेकिन, बैंक यूनियनों ने इसके खिलाफ एसबीआई को चेतावनी दी है. इनका कहना है कि बैंक का काम किसी एयरवेज को चलाना नहीं है. इसके अलावा यूनियनों ने इसके खिलाफ आंदोलन की भी धमकी दी है. यूनियनों की शिकायत है कि बैंक कर्मियों का वेतन बढ़ाने के लिए उसके पास फंड नहीं है तो किसी निजी विमान कंपनी को वित्तीय संकट से उबारने के लिए फंड क्यों दिया जा रहा है?

शत्रुघ्न सिन्हा के कांग्रेस में शामिल होने के आसार

बिहार के पटना साहिब से भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा जल्द ही कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं. हिन्दुस्तान ने कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के हवाले से यह खबर प्रकाशित की है. खबर के मुताबिक प्रवक्ता ने कहा है कि उनकी पार्टी की शत्रुघ्न सिन्हा से बातचीत हो चुकी है. उनके मुताबिक भाजपा सांसद के कांग्रेस में शामिल होने के लिए केवल वक्त तय करना बाकी रह गया है. बताया जाता है कि अगर शत्रुघ्न कांग्रेस में शामिल होते हैं तो उन्हें पार्टी की ओर से पटना साहिब सीट पर उम्मीदवार बनाया जा सकता है. इससे पहले वे भाजपा उम्मीदवार के तौर पर इस सीट से दो बार जीत दर्ज कर चुके हैं. हालांकि, माना जा रहा है कि इस बार जीत करना उनके लिए आसान नहीं होगा. भाजपा इस सीट पर केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद को उतारने की तैयारी में है.

अमित शाह के अनुरोध पर हिमंता बिस्वा सरमा ने चुनाव न लड़ने का फैसला किया

असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने लोकसभा चुनाव न लड़ने का फैसला किया है. द हिंदू की खबर के मुताबिक उन्होंने ट्वीट कर कहा कि वे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के आभारी हैं जिन्होंने पूर्वोत्तर में पार्टी को मजबूत करने का काम देकर उन पर भरोसा दिखाया है. इससे पहले अमित शाह ने सरमा से चुनाव न लड़कर नॉर्थ-ईस्ट डेमोक्रेटिक एलायंस (नेडा) का विस्तार करने की अपील की थी. वहीं, कांग्रेस ने इस पर भाजपा को निशाने पर लिया है. पार्टी प्रवक्ता रितुपर्णा कोनवार ने कहा, ‘यदि इस क्षेत्र में 20 से अधिक सीटें जीतने के लिए मंत्री को चुनाव नहीं लड़ने के लिए कहा जाता है तो भाजपा अध्यक्ष गुजरात से चुनाव क्यों लड़ रहे हैं.’ बता दें कि भाजपा ने गुजरात की गांधीनगर सीट से लाल कृष्ण आडवाणी की जगह अमित शाह को प्रत्याशी घोषित किया है.

किसान सम्मान निधि योजना की दूसरी किस्त को चुनाव आयोग की सशर्त मंजूरी

चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत दूसरी किस्त जारी करने की अनुमति दे दी है. हालांकि, इसके साथ शर्त भी जोड़ी गई है. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक इसका फायदा केवल उन किसानों को ही हासिल होगा जिनका नाम चुनावी आचार संहिता लागू किए जाने से पहले लाभार्थियों की सूची में शामिल किया गया था. बीती 10 मार्च को लोकसभा चुनावों की तारीखों के एलान के साथ ही यह स्वत: लागू हो चुका है. इससे पहले 24 फरवरी को इस योजना की शुरुआत हुई थी. इसमें छोटे और सीमांत किसानों को एक साल में तीन किस्तों में कुल 6,000 रुपये बतौर मदद देने की बात कही गई है. इसके तहत 31 मार्च तक सभी लाभार्थियों के बैंक खातों में 2,000 रुपये की रकम भेजी जानी है. इसके बाद दूसरी किस्त जारी की जाएगी.