भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को लोकसभा चुनाव में पार्टी द्वारा उम्मीदवार नहीं बनाये जाने के बाद केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने रविवार को कहा कि अब ‘स्थिति’ आडवाणी को स्पष्ट करनी है. उमा भारती ने साथ ही यह भी कहा कि चुनाव लड़ने या नहीं लड़ने से लालकृष्ण आडवाणी का कद प्रभावित नहीं होता.

उमा भारती ने 91 वर्षीय नेता की प्रशंसा करते हुए कहा कि वह लालकृष्ण आडवाणी ही थे, जिन्होंने पार्टी को ऐसी स्थिति में लाने में एक अहम भूमिका निभायी कि आज नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं. उन्होंने कहा, ‘अभी आडवाणी जी ही ऐसे व्यक्ति हैं जो इस पर टिप्पणी कर सकते हैं.’ उमा भारती ने यह बात लालकृष्ण आडवाणी को लोकसभा चुनाव में गुजरात की गांधीनगर सीट से उम्मीदवार नहीं बनाने को लेकर पूछे गए सवालों के जवाब में कही.

इस दौरान उमा भारती का यह भी कहना था कि एक निश्चित आयु से अधिक के नेताओं को चुनावी टिकट नहीं देने के बारे में कोई एक नीति नहीं हो सकती. उन्होंने कहा कि पार्टी ने कई युवा सांसदों को भी इस बार टिकट नहीं दिया है. 59 वर्षीय उमा भारती स्वयं लोकसभा चुनाव नहीं लड़ रही हैं और उन्होंने कहा कि अपनी इस इच्छा से काफी समय पहले उन्होंने पार्टी को अवगत करा दिया था. भाजपा नेता ने विश्वास जताया कि नरेंद्र मोदी प्रचंड जीत के साथ प्रधानमंत्री के तौर पर वापसी करेंगे.