केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि पाकिस्तान के बालाकोट में की गई भारतीय वायु सेना की एयर स्ट्राइक का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए. खबरों के मुताबिक केंद्रीय मंत्री ने यह बात एक इंटरव्यू के दौरान कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘उस कार्रवाई का किसी को श्रेय नहीं लेना चाहिए. साथ ही उसे आगामी आम चुनाव के साथ भी जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए. अगर इस बात को लेकर विपक्षी दलों को कोई संदेह है तो यह उनकी परेशानी है.’ इसके साथ ही नितिन गडकरी ने यह भी कहा कि भारत की मौजूदा सरकार देश की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है. इस संबंध में वह कोई समझौता करने का तैयार नहीं है.

इस इंटरव्यू में नितिन गडकरी ने फिर दोहराया कि प्रधानमंत्री पद की दौड़ में वे शामिल नहीं हैं. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में अगर खंडित जनादेश मिलता है तो उस स्थिति में भी वे प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे. उन्होंने यह भी कहा, ‘प्रधानमंत्री बनने की मेरी कोई महत्वाकांक्षा नहीं है. मुझे पूरा भरोसा है कि लोकसभा के बीते चुनाव के मुकाबले इस चुनाव में हमारी पार्टी को और अधिक सीटें मिलेंगी. साथ ही नरेंद्र मोदी ही देश के अगले प्रधानमंत्री होंगे.’

इस इंटरव्यू के दौरान नितिन गडकरी ने कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी पर भी टिप्पणी की. साथ ही सक्रिय राजनीति में उनके प्रवेश से कांग्रेस को बड़ा लाभ मिलने की संभावनाओं को भी खारिज किया. उन्होंने कहा, ‘प्रियंका गांधी ने बीते दिनों जल मार्ग से गंगा की यात्रा की. उस दौरान उन्होंने गंगा जल भी पिया. इन दोनों बातों से साफ है कि हमारी सरकार ने बीते पांच साल में अच्छा काम किया है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं कि मार्च 2020 तक गंगा पूरी तरह स्वच्छ और निर्मल हो जाएगी. इसके अलावा हम यमुना नदी के जल को स्वच्छ करने की दिशा में भी काम कर रहे हैं. इस संबंध में 13 परियोजनाओं पर काम चल रहा है. अगले एक साल के भीतर इसका असर भी दिखने लगेगा.’

इससे पहले सोमवार को ही नितिन गडकरी ने आगामी आम चुनाव को लेकर महाराष्ट्र की नागपुर संसदीय सीट से अपना नामांकन भी दाखिल किया. इस मौके पर उन्होंने विश्वास जताया कि इस लोकसभा क्षेत्र के वोटरों का उन्हें पूरा समर्थन मिलेगा. साथ ही वहां के वोटर उन्हें पिछले आम चुनाव की तुलना में इस बार कहीं अधिक वोटों से विजयी बनाएंगे.