अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर रिश्वत कांड से जुड़े मामले में ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) के अधिकारियों ने सोमवार देर रात एक अहम एजेंट को ग़िरफ़्तार किया है. उसका नाम सुशेन मोहन गुप्ता बताया गया है.

ख़बरों के मुताबिक ईडी ने काले धन को वैध बनाने की कोशिशों की रोकथाम से संबंधित कानून (पीएमएलए) के तहत यह कार्रवाई है. सुशेन मोहन गुप्ता को मंगलवार को अदालत में पेश कर पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया जा रहा है. बताया जाता है कि गुप्ता इस पूरे मामले के बारे में कई जानकारियां रखता है. ख़ास तौर पर पैसों के लेन-देन से जुड़ी जानकारियां उसके पास हैं. सुशेन मोहन गुप्ता का नाम इसी मामले के एक अन्य आरोपित राजीव सक्सेना ने बताया है. राजीव सक्सेना सरकारी गवाह बन चुका है.

इस मामले में इससे पहले वकील गौतम खेतान और ब्रिटिश बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को भी ग़िरफ़्तार किया जा चुकी है. उनसे पूछताछ जारी है. ग़ौरतलब है कि अतिविशिष्ट व्यक्तियों (वीवीआईपी) की आवाज़ाही के लिए इस्तेमाल किए जाने के मक़सद से भारत ने 12 अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टरों की आपूर्ति का सौदा किया था. लगभग 3,600 करोड़ रुपए के इस पूरे सौदे में लगभग 360 करोड़ रुपए से अधिक की रिश्वत के लेन-देन का मामला सामने आने के बाद जनवरी 2014 में यह सौदा रद्द कर दिया गया था.