गोवा विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी के दो सदस्य बढ़ गए हैं. अब कुल 36 सदस्यों वाले सदन में उसकी सदस्य संख्या 12 से 14 हो गई है. राज्य की भाजपा सरकार में साझीदार महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के तीन में दो सदस्यों के इस्तीफ़े के बाद यह स्थिति बनी है. ये दोनों सदस्य मंगलवार-बुधवार की दरम्यानी रात भाजपा में शामिल हो गए. भाजपा के पास तीन निर्दलीय और गोवा फॉरवर्ड पार्टी के इतने ही सदस्यों (कुल 20) का भी समर्थन है.

इस टूट-फूट के बाद एमजीपी के शीर्ष नेता सुदिन धवलीकर विधानसभा में अपनी पार्टी के इक़लाैते सदस्य रह गए हैं. बीते दिनों अपने सर्वमान्य नेता मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद गोवा में प्रमोद सावंत के नेतृत्व में भाजपा ने नई सरकार बनाई थी. लेकिन इस सरकार में शामिल होने के लिए सुदिन धवलीकर काफ़ी मशक्क़त के बाद राज़ी हुए थे. उस समय उन्हें उपमुख्यमंत्री का पद देकर संतुष्ट किया गया था. लेकिन अब नई परिस्थितियों में सुदिन धवलीकर को मंत्रिमंडल से हटा दिया गया है.

ख़बरों के मुताबिक एमजीपी में टूट-फूट का यह घटनाक्रम मंगलवार देर रात चला. पार्टी के दो विधायक- मनोहर अजगांवकर और दीपक प्रभु पाउस्कर ने रात में विधानसभा अध्यक्ष माइकल लोबो से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष को एक अर्ज़ी सौंपी. इसमें उन्होंने बताया कि वे अपनी पार्टी से अलग होकर भाजपा में शामिल हो रहे हैं. चूंकि दलबदल कानून के तहत वे पार्टी से अलग होने के लिए ज़रूरी दो तिहाई सदस्य संख्या की शर्त को पूरा करते हैं, इसलिए उनकी अर्ज़ी को मंज़ूरी दी जाए.

इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने दोनों विधायकों की अर्ज़ी मंज़ूर करते हुए सदन के सचिव को ज़रूरी आदेश जारी करने के लिए कह दिया. इस मौके पर मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विनय तेंदुलकर भी मौज़ूद थे. प्रमोद सावंत सरकार में मनोहर अजगांवकर पहले से ही पर्यटन मंत्री हैं. उनके अलावा अब दीपक प्रभु पाउस्कर को भी मंत्री बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री उन्हें जो भी विभाग देंगे वह उन्हें मंज़ूर होगा.