‘सीमा पार से आतंकवाद की फैक्ट्री चलाने वाले आज डरे हुए हैं.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात जम्मू में एक रैली को संबोधित करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘भारत को दहलाने वाले आतंकवादी आज यहां प्रवेश को लेकर सौ बार सोचते हैं. साथ ही यह दुआ मांग रहे हैं कि जैसे भी हो उन्हें ‘चौकीदार’ से छुटकारा मिल जाए और ‘महामिलावटी’ लोग दिल्ली की कुर्सी पर बैठ जाएं.’ इसके साथ ही नरेंद्र मोदी ने कश्मीर के आतंकवाद के लिए कांग्रेस सहित नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) और पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा कि इन दलों ने कभी भारत के ‘सामर्थ्य’ पर भरोसा नहीं किया.

‘नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था बदहाल कर दी है.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात एक इंटरव्यू में कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा कि नोटबंदी जैसे फैसले और वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) के गलत क्रियान्वयन से असंगठित क्षेत्र और औद्योगिक इकाइयां बुरी तरह प्रभावित हुई हैं. ऐसे में कांग्रेस सरकार डीमॉनेटाइज (बदहाल) इकोनॉमी को ​रीमॉनिटाइज (दुरुस्त) करेगी. वह रोजगार सृजन पर ध्यान देगी. साथ ही न्यूनतम आय गारंटी योजना (न्याय) के जरिये गरीबों की आर्थिक मदद करेगी. इसके साथ ही राहुल गांधी का यह भी कहना था, ‘पांच साल के शासन में नरेंद्र मादी ने लोगों को कुछ भी दिया नहीं. उनसे सिर्फ छीना है.’


‘न्यूनतम आय योजना को लागू करना भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए राजकोषीय चुनौती होगी.’  

— अरविंद पनगढ़िया, नीति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष

अरविंद पनगढ़िया का यह बयान कांग्रेस की महत्वाकांक्षी योजना ‘न्याय’ पर सवाल खड़े करते हुए आया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा इस योजना को पारदर्शिता के लागू करना एक कठिन काम होगा. ऐसे में यह योजना शायद ही अपने लक्ष्य तक पहुंच सके. उनका यह भी कहना था, ‘मैं नहीं समझता कि हर जरूरतमंद तक इसका लाभ पहुंच सकेगा.’ इससे पहले इसी सोमवार को राहुल गांधी ने इस योजना की घोषणा की थी. साथ ही केंद्र में कांग्रेस सरकार बनने पर देश के गरीबों को सालाना 72 हजार रुपये की आर्थिक मदद देने की बात भी कही थी.


‘शराब के साथ तीन राजनीतिक दलों की तुलना करके नरेंद्र मोदी ने लोकतांत्रिक प्रणाली का अपमान किया है.’  

— रणदीप सिंह सुरजेवाला, कांग्रेस प्रवक्ता

रणदीप सिंह सुरजेवाला का यह बयान नरेंद्र मोदी के एक बयान पर पलटवार करते हुए आया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘प्रधानमंत्री से इस बयान के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए.’ इससे पहले गुरुवार को नरेंद्र मोदी ने एक रैली संबोधित की थी. तब उन्होंने सपा, रालोद और बसपा के शुरुआती अक्षरों को जोड़कर बनने वाले शब्द ‘सराब’ पर गौर करने के लिए कहा था. साथ ही ‘सराब’ को उन्होंने उत्तर प्रदेश और देश की प्रगति के लिए खतरनाक भी बताया था.


‘वन मैन शो और टू मैन आर्मी ने सब कुछ खराब कर दिया है.’  

— शत्रुघ्न सिन्हा, भारतीय जनता पार्टी के बागी नेता

शत्रुघ्न सिन्हा ने यह बात एक इंटरव्यू के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘मैं जल्दी ही कांग्रेस में शामिल होने जा रहा हूं. लेकिन इसे मेरा भाजपा को छोड़ना नहीं बल्कि पार्टी को मुझे छोड़ने के तौर पर देखा जाना चाहिए.’ इसके साथ ही शत्रुघ्न सिन्हा का यह भी कहना था कि इस आम चुनाव में ‘मोदी लहर’ नहीं बल्कि ‘मोदी कहर’ है. इस बार भाजपा के पक्ष में वोट नहीं पड़ने वाले.