देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति-सुजुकी ने अपनी लोकप्रिय सेडान सियाज को इस हफ़्ते नया इंजन उपलब्ध कराया है. इससे पहले कंपनी ने जब बीते साल अगस्त में सियाज का फेसलिफ्ट मॉडल लॉन्च किया था. तब कार के पेट्रोल इंजन में बदलाव देखने को मिला था. लेकिन कंपनी ने तब अपने डीज़ल पॉवरट्रेन में कोई बदलाव नहीं किया था. अब, बाज़ार में इसकी मांग तेजी से बढ़ने और नए पेट्रोल इंजन को ग्राहकों का शानदार रेसपॉन्स मिलने के बाद कंपनी ने अपना यह उत्पाद बाज़ार में पेश किया है.

1.5-लीटर क्षमता के इस के-15 इंजन को कंपनी ने इनहाउस ही तैयार किया है. जानकारों की मानें तो यह इंजन कम रफ़्तार पर भी 225 एनएम का जबरदस्त टॉर्क और 94 बीएचपी की बेहतरीन पॉवर देने में सक्षम है. दरअसल कंपनी ने इस इंजन को हाई एफिशिएंट टर्बो चार्जर से लैस किया है जो हायर लो-एंड टॉर्क जनरेट करता है. इस बात को सरल भाषा में समझें तो यह इंजन 1500-2500 आरपीएम पर ही बिना ज्यादा गर्म हुए या लोड लिए बिना ही कार को आसानी से तेज़ गति में ला देता है. इसके चलते यह कम मेंटनेंस में उम्दा परफॉर्मेंस देने वाली मशीन तो साबित होता ही है, साथ ही यह कार को शहर की व्यस्तम सड़कों पर भी चलाने में खासी सहूलियत देता है.

कंपनी का दावा है कि उसका यह नया डीडीआईएस इंजन 26.82 किमी/लीटर की आकर्षक माइलेज के साथ किफायत के मामले में भी सेगमेंट में अग्रणी है. सियाज में लगा यह नया इंजन 6-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन बॉक्स से जुड़ा है जो खासतौर पर नई डीज़ल पावरट्रेन के लिए तैयार गया है. इसमें कार के रिवर्स गियर की जगह बदलकर पहले गियर के तुरंत पास दे दी गई है, जिससे टाइट पाकिंग में बार-बार आगे-पीछे करने की जरूरत पड़ने पर हाथ को ज्यादा मेहनत न करनी पड़े. इस नए इंजन के साथ मारुति ने सियाज के डीज़ल वर्ज़न की शुरुआती एक्सशोरूम कीमत 9.97 लाख रुपए तय की है जो कार के टॉप मॉडल के लिए 11.37 लाख रुपए तक जाती है. सियाज़ में 7.0 इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, ऑटोमेटिक क्लाइमेट कंट्रोल और लेदर अपहोल्स्ट्री के साथ क्रूज़ कंट्रोल जैसी खूबियां मिलती हैं.

देश का सबसे बड़ा टायर जेके के नाम

भारत की टायर निर्माता कंपनी जेके टायर का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है. कंपनी ने यह उपलब्धि देश का सबसे बड़ा ऑफरोड टायर बनाकर हासिल की है. जेके टायर्स ने अपने इस 40.00-57 वीईएम 045 को 2014 में लॉन्च किया था. यह विशालकाय टायर 12 फीट लंबा होने के साथ 3.4 टन वजनी है. इस टायर को खासतौर पर देश के सबसे बड़े रिजिड डंप ट्रक के लिए तैयार किया गया था जिसकी क्षमता 240 टन वज़न ढोने की है.

इस मौके पर जेके टायर एंड इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड के मार्केटिंग डायरेक्टर विक्रम मल्होत्रा ने खुशी ज़ाहिर करते हुए कहा, ‘भारतीय टायर इंडस्ट्री में जेके टायर्स नए अविष्कार और उत्पादों के मामले में सबसे आगे है. लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड में नाम शामिल होना इस बात का प्रमाण है. बाज़ार में आने के बाद से वीईएम 045 को मजबूती और उपयोग के लेकर काफी सराहना मिली है. इस उपलब्धि के बाद हम भविष्य में भी यूं ही विशेष श्रेणियों के नए उत्पाद बनाने के लिए रोमांचित और प्रोत्साहित महसूस कर रहे हैं.’ गौरतलब है कि जेके टायर्स यात्री और हल्के व्यवसायिक वाहनों के साथ-साथ हैवी इंडस्ट्रियल और माइनिंग सैगमेंट के लिए भी टायरों का निर्माण करती है.

रॉयल एनफील्ड की दो नई पेशकश

विंटेज और दमदार बाइक सेगमेंट में जावा की वापसी की ख़बरों के बाद से ही रॉयल एनफील्ड की चुनौतियां भले ही बढ़ गई हैं, लेकिन बाज़ार से इस कंपनी की पकड़ इतनी आसानी से ढीली कर पाना इतना आसान नहीं. बीते करीब सालभर में रॉयल एनफील्ड ने एक के बाद एक अपनी पुरानी बाइकों के नए-नए एडिशन और कुछ नई बाइकें लॉन्च कर बाज़ार में अपनी गाड़ियों की बड़ी रेंज खड़ी कर दी है. इस हफ़्ते लॉन्च हुई बुलट ट्रायल्य वर्क्स रैप्लिका-350 और 500 इस फेहरिस्त में शामिल दो नई बाइक हैं. ऑफरोड ट्रेकिंग के लिए तैयार इन बाइकों को कंपनी ने पचास के दशक की अपनी ट्रायल्स मोटरसाइकल का नाम दिया है जो उस जमाने में ऑफ रेसिंग के लिए जाना-पहचाना नाम था.

नाम के साथ इन दोनों ही बाइकों को वही पुराना रेट्रो-स्क्रैंबलर टच दिया है जो ऑवरऑल डिज़ायन, स्टाइल और ढेर सारी एक्सेसरी के साथ जबरदस्त लुक देता है. ट्रायल्य वर्क्स रैप्लिका-350 और 500; दोनों ही बाइकों पर क्रोम सिल्वर पेन्ट देने के साथ कंपनी ने इनके फ्रेम को अलग कलर दिया है. इन बाइकों के हैडलैंप नेसल पर भी सिल्वर क्रोम कलर किया गया है. यदि इन बाइकों की अन्य खूबियों की बात करें तो यहां थोड़ी उठी हुई सिंगल माउंटेड सीट और एक लगेज़ रैक इसके ओल्ड स्कूल स्क्रैंबर लुक को कंप्लीट करता है. इसके अलावा वायर स्पॉक्ड रिम के साथ लगे ट्यूब टायर ऑफरोडिंग के लिए पूरी तरह उपयुक्त दिखते हैं. इन दोनों ही मोटरसाइकल के अगले व्हील में 280एमएम का डिस्क और पिछले व्हील में 240एमएम का डिस्क ब्रेक दिया गया है जो डुअल-चैनल एबीएस से लैस है. दोनों बाइक्स के अगले हिस्से में टेलिस्कोपिक फोर्क्स और पिछले हिस्से में ट्विन शॉक अबज़ॉवर्स दिए गए हैं.

परफॉर्मेंस की बात करें तो रॉयल एनफील्ड बुलट ट्रायल्य वर्क्स रैप्लिका 350 में 346 सीसी का सिंगल-सिलेंडर इंजन दिया गया है जो 19.8 बीएचपी पॉवर और 28 एनएम टॉर्क जनरेट करता है. वहीं बुलट ट्रायल्स 500 में 499 सीसी का सिंगल-सिलेंडर कार्बोरेटेड इंजन दिया गया है जो 26.1 बीएचपी पॉवर और 40.9 एनएम का अधिकतम टॉर्क उत्पन्न करने में सक्षम है. कंपनी ने दोनों बाइक्स के इंजन को 5-स्पीड गियरबॉक्स दिया है. यदि आप इन बाइकों को घर लाना चाहते हैं तो रॉयल एनफील्ड ने बुलट ट्रायल्य वर्क्स रैप्लिका 350 के लिए एक्सशोरूम कीमत 1.62 लाख रुपए और बुलट ट्रायल्य वर्क्स रैप्लिका 500 के लिए एक्सशोरूम कीमत 2.07 लाख रुपए तय की है.