इतिहास में दो अप्रैल का दिन भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे यादगार दिनों में से एक है. 2011 में आज ही टीम इंडिया ने अपना दूसरा क्रिकेट विश्व कप जीता था. श्रीलंका के खिलाफ खेले गए फाइनल मैच में भारत ने छह विकेट से जीत दर्ज की थी. टीम इंडिया को श्रीलंका ने 275 रनों का लक्ष्य दिया था. भारत की ओर से गौतम गंभीर ने 97 रनों की पारी खेली थी. लेकिन 92 रनों की मैच जिताऊ पारी खेली कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने. भारत जब जीत से कुछ ही रन दूर था, तभी एक शानदार छक्का जड़ कर उन्होंने न सिर्फ भारत को विश्व चैंपियन बनाया, बल्कि अपना नाम भी इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए जोड़ दिया.

इसके अलावा, इतिहास में दो अप्रैल का दिन एक अनोखी विमान घटना के लिए याद किया जाता है. साल 1986 में इसी दिन अमेरिका की प्रमुख विमानन कंपनी टीडब्ल्यूए के यात्री जेट विमान बोइंग 727 की एक सीट के नीचे रखे बम में विस्फोट हुआ जिससे विमान में एक बड़ा सा सुराख हो गया. उस समय रोम से काहिरा जा रहा वह विमान 11,000 फुट की ऊंचाई पर था. धमाके से पहले जो चार लोग उस सीट पर बैठे थे, वे सुराख बनने के बाद हवा के दबाव से विमान से बाहर गिर गए. उनमें आठ माह की एक बच्ची भी शामिल थी. बाद में विमान चालक ने बड़ी सावधानी से विमान को एथेंस में उतारकर बाकी यात्रियों की जान बचा ली. अरब रेवोल्यूशनरी सेल्स की एजेदीन कासम यूनिट ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी और इसे लीबिया के खिलाफ अमेरिकी बमबारी का बदला बताया था.

देश-दुनिया के इतिहास में दो अप्रैल की तारीख में दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:

1679 : मुगल बादशाह औरंगजेब ने अपनी सल्तनत के हिंदुओं पर फिर से जजिया कर लगाया. इस कर को अकबर ने समाप्त किया था.

1902 : लॉस एंजिलिस में पहला मोशन पिक्‍चर थियेटर खुला.

1902 : हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के फनकार बड़े गुलाम अली खां का जन्म.

1933 : भारतीय क्रिकेट के जनक माने जाने वाले रणजीत सिंह का निधन.

1912 : टाइटैनिक का सामुद्रिक परीक्षण शुरू.

1970 : ‘असम पुनर्गठन अधिनियम’ के तहत भारत के उत्तर-पूर्व में मेघालय को स्वायत्तशासी राज्य का दर्जा हासिल हुआ. इस राज्य का गठन असम के दो जिलों संयुक्त गारो और जयन्तिया और खासी हिल्स को मिलाकर किया गया.

1982 : अर्जेंटीना ने दक्षिणी अटलांटिक महासागर में स्थित फॉकलैंड द्वीप समूह पर हमला किया.

1997 : सुमिता सिन्हा ने एक रिकॉर्ड बनाया, जब 3,200 किलोग्राम वजन का एक ट्रक उनके ऊपर से गुजरा.

2005 : वैटिकन का सर्वोच्च पद संभालने वालों में से एक पोप जॉन पॉल द्वितीय का निधन .